Live 7 Bharat
जनता की आवाज

क्या बीजेपी और बीजेडी साथ मिलकर ओडिशा में चुनाव लड़ेंगे ?

क्या ओडिशा में सत्ता हासिल करने की साजिश कर रही है  बीजेपी -बीजेडी ?

- Sponsored -

दिल्ली डेस्क

- Sponsored -

राजनीति तो एक साजिश ही है और बिना साजिश किये किसे के पास सत्ता आती नहीं। लोकतंत्र के नाम पर जितने तरह के षड्यंत्र चुनाव के दौरान किये जाते हैं वे रोचक भी होते हैं घिनौने भी। यह लुभाता भी है और भरमाता भी है। लेकिन लोकतंत्र आगे चलता ही रहता है।
ओडिशा में भी अगले साल चुनाव होने होने हैं। साथ ही लोकसभा के भी चुनाव है। ओडिशा प्रदेश कांग्रेस समिति  के अध्यक्ष शरत पटनायक ने मंगलवार को बीजू जनता दल और भारतीय जनता पार्टी दोनों की आलोचना करते हुए आरोप लगाया कि दोनों पार्टियों ने मिलकर 2024 में राज्य में सत्ता हासिल करने की साजिश रची है। पटनायक ने यहां संवाददाताओं से कहा कि मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के सचिव वी के पांडियन द्वारा सरकारी सेवा से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति महज एक दिखावा है और ओडिशा में सत्ता हासिल करने की एक बड़ी साजिश है।

उन्होंने कहा कि भाजपा और बीजद दोनों एक हैं और 2024 का चुनाव एक साथ लड़ने की योजना बना रहे हैं तथा पांडियन दोनों पार्टियों के ‘राजनीतिक एजेंट’ की भूमिका निभा रहे हैं। उन्होंने कहा, केंद्र सरकार द्वारा महज तीन दिनों में श्री पांडियन के वीआरएस को मंजूरी देना एक सोची समझी रणनीति है जो यह साबित करती है।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि पांडियन ने 20 अक्टूबर को वीआरएस के लिए आवेदन किया था और इसे 23 अक्टूबर को केंद्र सरकार ने मंजूरी दे दी थी। उन्होंने आरोप लगाया कि श्री पांडियन के वीआरएस को मंजूरी में बीजद और भाजपा सरकार दोनों का वरदहस्त  है।
पटनायक ने कहा अब कांग्रेस ही ओडिशा के लोगों के सामने एकमात्र विकल्प है और विश्वास है कि राज्य के लोग 2024 के विधानसभा चुनाव में बीजद और भाजपा को करारा जवाब देंगे और जनता को भ्रमित करने का वाजिब जवाब देंगे। उन्होंने वीआरएस स्वीकृत होने के एक दिन बाद मुख्यमंत्री द्वारा 5टी और ‘नवीन ओडिशा योजना’ के अध्यक्ष के रूप में श्री पांडियन की नियुक्ति की कड़ी निंदा की।
पांडियन  की नियुक्ति को ‘सुनियोजित साजिश’ बताते हुए पटनायक ने कहा कि 2024 के चुनाव के मद्देनजर नवगठित नवीन ओडिशा योजना के तहत 4,000 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की गई थी। ओपीसीसी अध्यक्ष ने कहा कि खनन घोटाले में कई गैर-ओडिया लोग शामिल थे, लेकिन अब तक उनमें से किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। उन्होंने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने  पांडियन को सत्ता में इसलिए लाए हैं क्योंकि वह वृद्धावस्था होने के कारण राज्य का दौरा करने में असमर्थ हैं, लेकिन जिस तरह से राज्य में उप-शासन के प्रयास चल रहे हैं वह कांग्रेस को कतई स्वीकार्य नहीं है।
पटनायक ने कहा कि इससे पहले भी राज्य का शासन कुछ बाहरी लोगों के हाथों में दिया था, लेकिन इसे दोबारा करने की इजाजत नहीं दी जाएगी। उन्होंने राज्य की जनता से एकजुट होकर कांग्रेस के पक्ष में वोट देकर सत्ता में लाने की अपील की है। इनपुट वार्ता

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: