Live 7 Bharat
जनता की आवाज

आखिर सीएम स्टालिन क्यों चाहते हैं कि तमिलनाडु के राज्यपाल लोकसभा चुनाव तक बने रहे ?

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री शाह को पत्र लिखकर आग्रह किया .

- Sponsored -

दिल्ली डेस्क
तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री शाह को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि लोकसभा है चुनाव तक वे सूबे के राज्यपाल आर एन रवि को यहाँ से कही और स्थानांतरित न करें। बता दें कि तमिलनाडु में सरकार और राज्यपाल के बीच काफी तनातनी का माहौल रहा है, ऐसे में सीएम स्टालिन के इस आग्रह भरे पत्र को एक तंज के रूप में देखा जा रहा है। कहा जा रहा है कि सत्तारूढ़ द्रमुक के द्रविड़ मॉडल शासन की आलोचनाओं को लेकर राजभवन पर हमला करने के बाद मुख्यमंत्री एम.के.स्टालिन ने प्रधानमंत्री से यह ‘अनुरोध’ किया है।

- Sponsored -

गौरतलब है कि द्रमुक सरकार और राजभवन कई मुद्दों पर आमने-सामने हैं, जिनमें सनातन धर्म, राज्य विधानसभा में पारित विधेयकों को मंजूरी देना और एक गिरफ्तार मंत्री को बिना विभाग के कैबिनेट में बनाए रखना शामिल है।
द्रमुक और उसके सहयोगी भी राज्यपाल को वापस बुलाने की मांग करने लगे और मांग को दबाने के लिए संसद परिसर में विरोध प्रदर्शन भी किया। स्टालिन ने यहां द्रमुक पार्टी के एक पदाधिकारी के परिवार में एक शादी के आयोजन में कहा, “हमारे पास बहुत सारे फायदे हैं।                रवि जो कहना चाहते हैं वह कह सकते हैं, लेकिन तमिलनाडु के लोग उन्हें गंभीरता से नहीं लेंगे। हम सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जो साझा किया जा रहा है उसका अनुसरण कर रहे हैं।”
स्टालिन ने राज्यपाल पर स्पष्ट रूप से कटाक्ष करते हुए कहा,“द्रविड़ विचारधारा की सफलता इस तथ्य में निहित है कि इसने ऐसे लोगों को इसके बारे में बात करने के लिए प्रेरित किया है।”
अपने भाषण को समाप्त करने से पहले, स्टालिन ने द्रमुक कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि वे अपनी सतर्कता कम न करें, कड़ी मेहनत करें और एकजुट रहें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि उनके नेतृत्व वाला मोर्चा पुड्डुचेरी की एक सीट समेत सभी 40 सीटें जीतें ।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: