Live 7 Bharat
जनता की आवाज

कैश फॉर क्वेरी मामले में टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा की संसद सदस्यता रद्द

लोकसभा से पास हुआ प्रस्ताव

- Sponsored -

संसद शीतकालीन सत्र के पांचवे दिन कैश-फॉर-क्वेरी मामले में टीएमसी सांसद महुआ मोईत्रा की संसद सदस्यता रद्द कर दी गई। संसद सदस्यता जाने के बाद महुआ ने कहा कि मेरे खिलाफ कोई सबूत नहीं थे, लेकिन फिर भी कंगारू कोर्ट ने ये फैसला लिया क्योंकि मोदी सरकार के लिए अडानी ग्रुप जरूरी है. वही महुआ की संसद सदस्यता रद्द किये जाने के बाद सांसद जॉन ब्रिटास ने इसका विरोध किया। जॉन ब्रिटास ने कहा कि मोदी सरकार को घेरने वाली महुआ मोइत्रा की सदस्यता रद्द कर दी गई है. ये सही नहीं है.  वही महुआ मोइत्रा के समर्थन में तमाम विपक्षी सांसद भवन के बाहर आ गए हैं. इसमें कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी भी शामिल रही.

 

- Sponsored -

500 पेज की रिपोर्ट सदन में की गई थी पेश

 

संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान 500 पेज की रिपोर्ट को सदन में पेश किया गया था। जिसमें महुआ की सदस्यता रद्द करने की सिफारिश की गई। पांचवे दिन सदन में महुआ पर लगे आरोपों को लेकर जमकर हंगामा हुआ था। जिसके चलते कार्यवाही को दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया था।

 

महुआ पर एक्शन की जल्दी क्यों? : मनीष तिवारी, कांग्रेस सांसद

 

लोकसभा में कार्यवाही शुरू होते ही सदन में कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने महुआ का समर्थन किया था। मनीष ने कहा था कि आखिरकार महुआ पर कार्यवाही की इतनी जल्दी क्यों? क्या महुआ को अपना पक्ष नही रखने देना चाहिए। कमेटी बिना सदन के फैसले के कैसे सांसद को सजा दे सकती है। मनीष के इस बयान पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा, ये सदन है, कोर्ट नहीं है. न ही मैं न्यायाधीश हूं, मैं लोकसभा स्पीकर हूं.

 

कार्रवाई से पहले महुआ को सदन में बोलने का मिले मौका: TMC सांसद

 

लोकसभा की सुनवाई के दौरान टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी ने लोकसभा अध्यक्ष से मांग की थी की महुआ को निष्कासन ने पहले सदन में बोलने का मौका दिया जाना चाहिए. फेयर ट्रायल होना चाहिए. महुआ को सुने बिना निष्पक्ष जांच कैसे हो सकती है.

 

 महुआ मोइत्रा बोली ”मां दुर्गा आ गई हैं,

 

पांचवे दिन लोकसभा के शुरू होने से पहले महुआ ने कहा कि  ”मां दुर्गा आ गई हैं, अब देखेंगे…जब नाश मनुज पर छाता है, पहले विवेक मर जाता है. उन्होंने ‘वस्त्रहरण’ शुरू किया अब आप ‘महाभारत का रण’ देखेंगे.”

 

महुआ पर क्या लगे थे ये आरोप !

 

बीजेपी सांसद निशिकांत दूबे ने महुआ पर पैसे लेकर सदन में सवाल पूछने के आरोप लगाए थे। निशिकांत ने इस मुद्दे को लेकर लोकसभा अध्यक्ष को भी पत्र लिखा था। जिसमें कहा गया था कि महुआ ने संसद में सवाल पूछने के एवज में बिजनेसमैन दर्शन हीरानंदानी से कैश और महंगे गिफ्ट्स लिए. इसके साथ ही उन्होने दर्शन हीरानंदानी को अपने सांसद लॉग इन क्रेडेंशियल्स भी दिए, जिसका दुबई में इस्तेमाल किया गया. दर्शन हीरानंदानी ने हलफनामा देकर इन बातों को स्वीकार किया है. इसी आधार पर बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला से जांच की मांग की थी. इसके बाद लोकसभा अध्यक्ष ने मामले को एथिक्स कमेटी के पास भेज दिया था. जिसपर कमेटी ने महुआ से कुछ सवाल जवाब किये थे। अब इस मामले को लेकर लोकसभा में 500 पेज की रिपोर्ट पेश की गई थी। जिसपर लोकसभा में प्रस्ताव पास कर महुआ की सदस्यता को रद्द कर दिया गया।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: