Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

श्रीकृष्ण जन्मभूमि वाद : वादी के कृष्ण का वंशज होने के दावे पर उठे सवाल

- Sponsored -

मथुरा : उत्तर प्रदेश में मथुरा की विभिन्न अदालतों में श्रीकृष्ण जन्मभूमि विवाद से जुड़े एक मुकदमे में दिलचस्प मोड़ उस समय आ गया, जब वाद में शामिल तीसरे पक्ष ने वादी के श्रीकृष्ण के वंशज होने के दावे पर ही प्रश्नचिन्ह लगा दिया। वादी के अधिवक्ता दीपक शर्मा ने बुधवार को बताया कि तीसरे पक्षकार यदुवंशी जादौन महासभा के पदाधिकारियों ने सिविल जज सीनियर डिवीजन ज्योति ंिसह की अदालत में प्रार्थनापत्र देकर कहा है कि इस वाद के वादी मनीष यादव ने अपने को श्रीकृष्ण के वंशज होने का दावा किया है, जबकि वह अहीर जाति का है। उन्होंने दलील दी कि भगवान श्रीकृष्ण का वंश क्षत्रिय चन्द्रवंश की शाखा यदुवंश कुल से है। भगवान श्रीकृष्ण यदुवंशी क्षत्रिय जाति के थे न कि अहीर थे। यह भी कहा गया है कि नन्द गोप अहीर जाति के थे तथा उनका श्रीकृष्ण से कोई जातीय रिश्ता नहीं था। तीसरे पक्ष ने इस प्रकार के कई तर्क देकर यह सिद्ध करने की कोशिश की कि वादी मनीष यादव, भगवान श्रीकृष्ण के वंशज नहीं है। एडवोकेट शर्मा ने बताया कि वादी मनीष यादव ने मंगलवार को अदालत में कहा कि तीसरे पक्ष द्वारा दिया गया प्रार्थनापत्र स्वीकार करने योग्य नही है, क्योंकि तीसरे पक्ष ने इस वाद के प्रतिवादियों से मिलकर यह प्रार्थनापत्र दिया है। यादव ने दलील दी कि वे जान बूझकर मुकदमे की कार्रवाई को लटकाना चाहते है और सस्ती लोकप्रियता के लिए वे तीसरे पक्ष के रूप में इस वाद में शामिल हुए हैं। उन्होंने यह सिद्ध करने की कोशिश की है कि वे ही श्रीकृष्ण के वंशज है और तीसरे पक्ष की दलील खारिज करने योग्य है इसलिये उस पर भारी जुर्माना लगाया जाना चाहिए।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.