Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह के औसत से असाधारण के मंत्र ने देश को प्रेरित किया : मोदी

- Sponsored -

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तमिलनाडु में हादसे का शिकार बने देश के प्रथम चीफ आॅफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ले जाने वाले हैलीकॉप्टर के पायलट दिवंगत ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह को श्रद्धांजलि दी और अपने पुराने स्कूल के बच्चों के लिए लिखे गये पत्र का उल्लेख करते हुए कहा कि ‘औसत से असाधारण’ बनने के उनके मंत्र ने पूरे देश को प्रेरित किया है।श्री मोदी ने आकाशवाणी पर अपने मासिक कार्यक्रम ‘मन की बात’ में कहा कि महाभारत के युद्ध के समय, भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को कहा था – ‘नभ: स्पृशं दीप्तम्’ यानि गर्व के साथ आकाश को छूना।

ये भारतीय वायुसेना का आदर्श वाक्य भी है। माँ भारती की सेवा में लगे अनेक जीवन आकाश की इन बुलंदियों को रोज़ गर्व से छूते हैं, हमें बहुत कुछ सिखाते हैं। ऐसा ही एक जीवन रहा ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का, जो उस हेलीकॉप्टर को उड़ा रहे थे, जो इस महीने तमिलनाडु में हादसे का शिकार हो गया।उन्होंने कहा कि हमने उस हादसे में देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी समेत कई वीरों को खो दिया।

ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह भी मौत से कई दिन तक जांबाजी से लड़े, लेकिन फिर वो भी हमें छोड़कर चले गए।
उन्होंने कहा, ‘‘वह जब अस्पताल में थे, उस समय मैंने सोशल मीडिया पर कुछ ऐसा देखा, जो मेरे ह्रदय को छू गया। इस साल अगस्त में ही उन्हें शौर्य चक्र दिया गया था। इस सम्मान के बाद उन्होंने अपने स्कूल के ंिप्रसिपल को एक चिट्ठी लिखी थी।

इस चिट्ठी को पढ़कर मेरे मन में पहला विचार यही आया कि सफलता के शीर्ष पर पहुँच कर भी वे जड़ों को सींचना नहीं भूले। दूसरा – कि जब उनके पास अपनी सफलता का आनंद लेने का समय था, तो उन्होंने आने वाली पीढ़ियों की ंिचता की। वो चाहते थे कि जिस स्कूल में वो पढ़े, वहाँ के विद्यार्थियों की ंिजदगी भी आनंद का एक उत्सव बने।प्रधानमंत्री ने कहा कि अपने पत्र में ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह ने अपने पराक्रम का बखान नहीं किया बल्कि अपनी असफलताओं की बात की।

- Sponsored -

- Sponsored -

कैसे उन्होंने अपनी कमियों को काबिलियत में बदला, इसकी बात की। इस पत्र में एक जगह उन्होंने लिखा है – ‘‘औसत होना भी ठीक है। हर कोई स्कूल में अग्रणी नहीं होगा और हर कोई 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने में सक्षम होगा। यदि आप ऐसा कर पाते हैं, यह एक शानदार उपलब्धि होगी और इसके लिए अभिनंदन होना चाहिए। हालांकि यदि आप ऐसा नहीं कर पाते हैं तो यह मत सोचिए कि आप औसत दर्जे के हैं। आप औसत दर्जे के स्कूल में हो सकते हैं लेकिन जीवन में होने वाली बहुत सारी चीजÞों के लिए यह कोई पैमाना नहीं है।

आपके हिसाब से यह कला, संगीत, ग्राफिक डिजायन, साहित्य कुछ भी हो सकता है। आप जो कुछ भी करें, उसमें समर्पण हो, आपका सर्वश्रेष्ठ लगा दें। कभी भी बुरी सोच नहीं अपनाएं, आप अपने प्रयासों को बढ़ाने के बारे में सोचें।’’ श्री मोदी ने कहा, ‘‘औसत से असाधारण बनने का उन्होंने जो मंत्र दिया है, वो भी उतना ही महत्वपूर्ण है। इसी पत्र में वरुण सिंह ने लिखा है – कभी आशा मत छोड़ो। कभी ऐसा मत सोचो कि आप जो बनना चाहते हो, आप वह बनने के काबिल नहीं हो।

यह आसान नहीं होता है। समय और परिश्रम लगता है। मैं भी औसत था और आज, मैंने मेरे करियर में बहुत मुश्किल मुकाम हासिल किया है। यह मत सोचो की 12वीं के बोर्ड के अंक तय करेंगे कि आप जीवन में क्या हासिल करने के योग्य हो। आप खुद में विश्वास रखो और उस दिशा में काम करो।’’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह ने लिखा था कि अगर वह एक भी विद्यार्थी को प्रेरणा दे सके, तो ये भी बहुत होगा। लेकिन, आज मैं कहना चाहूँगा – उन्होंने पूरे देश को प्रेरित किया है। उनका पत्र भले ही केवल विद्यार्थियों से बात करता हो, लेकिन उन्होंने हमारे पूरे समाज को सन्देश दिया है।’

’ श्री मोदी ने कहा कि वह हर साल ऐसे ही विषयों पर विद्यार्थियों के साथ परीक्षा पर चर्चा करता हैं। इस साल भी परीक्षाओं से पहले वह छात्र-छात्राओं के साथ चर्चा करने की योजना कर रहा हूँ।

इस कार्यक्रम के लिए दो दिन बाद 28 दिसंबर से माईगॉव डॉट इन पर पंजीकरण भी शुरू होने जा रहा है जो 20 जनवरी तक चलेगा। इसके लिए कक्षा नौ से 12 तक के विद्यार्थी, शिक्षक और अभिभावक के लिए आॅनलाइन प्रतियोगिता भी आयोजित होगा।उन्होंने कहा, ‘‘मैं चाहूँगा कि आप सब इसमें जरुर हिस्सा लें। आपसे मुलाŸकात करने का मौका मिलेगा। हम सब मिलकर परीक्षा, करियर, सफलता और विद्यार्थी जीवन से जुड़े अनेक पहलुओं पर मंथन करेंगे।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.