Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

दो सूत्री मांग को लेकर संयुक्त मोर्चा ने किया डेको आउटसोर्सिंग का चक्का जाम

- Sponsored -

कंपनी कर्मियों ने जताया विरोध, दोनों पक्षों के बीच स्थिति तनावपूर्ण, पुलिस ने संभाला मोर्चा
लोयाबाद। बांसजोड़ा में संचालित आउटसोर्सिंग कम्पनी डेको का संयुक्त मोर्चा ने दो सूत्री मांगों लेकर सोमवार को चक्का जाम कर दिया।चक्काजाम में जेएमएम के कोकिल महतो,जमसं के रामाशंकर महतो शंकर तुरी और आजसु के राजू रवानी सहित मृतक जानकी महतो की पत्नी भी शामिल थी। जैसे ही कम्पनी का चक्का जाम हुआ। कार्यरत कम्पनी के करीब 140 मजदूर चक्का जाम का विरोध करने लगे और आजसू जिलाध्यक्ष मंटू महतो के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। दोनो तरफ नारेबाजी होने से स्थिति तनावपूर्ण हो गई। लोयाबाद पुलिस जिला के अतिरिक्त बल के साथ उत्खनन स्थल पहुंच गई और हालात को काबू में किया। ज्ञात हो कि चक्का जाम करने वाले दल ने मृतक जानकी महतो के आश्रित को नियोजन मुआवजा एवं 20 दिन की जगह 26 रोज की काम और हाजरी मांग को लेकर पहले ही चेतावनी दी थी।
मृतक की पत्नी के मांग से सभी सहमत:-
मृतक जानकी महतो के आश्रित के नियोजन पर सभी मजदूर सहमत थे।लेकिन 26 दिन हाजरी पर राय बटते हुए नजर आया।बंद का विरोध कर रहे मजदूरो का साफ कहना था कि दुगार्पूजा दीवाली छठ करीब है।अगर कम्पनी काम हमेशा की लिए काम बंद कर दिया तो सभी मजदूर भूखे मर जायेंगे।मजदूरो ने मंटू महतो पर नेतागिरी करने का आरोप लगाया।समाचार लिखे जाने तक कम्पनी के काम बंद है।हालांकि आंदोलन कारी आउटसोर्सिंग स्थल से जा चुके हैं। मजदूर काम शुरू करने इंतजार में है।लेकिन कम्पनी आदेश नही दे रहा है।
नुकसान में चल रही कम्पनी:-अरबिंद
कम्पनी के अरविंद चौधरी ने कहा कि मृतक जानकी के परिवार से कम्पनी को सहानुभूति है।उस पर विचार किया जाएगा।लेकिन 26 दिन की हाजरी और काम सम्भव नही है।मजदूर अधिक है।और कम्पनी के पास काम कम है।ऐसे में कम्पनी मजदूरो का वेतन पूरा नही कर सकेगा।कहा काम बंद हुआ तो कम्पनी नो वर्क नो पे का नोटिश लगा देगा। ज्ञात हो कि जानकी महतो कम्पनी का मजदूर था।बीमारी के वजह से जनवरी 2021 में उसकी मौत हो गई। वेतन मामले में कम्पनी नुकसान का हवाला देकर सभी मजदूरो का हाजरी 14 दिन कर दिया था।सभी नेताओं और मजदूरो के विरोध के बाद 41 दिन कम्पनी बंद रही।तब कम्पनी के मजदूरो के समक्ष खाने के लाले पड़ने लगे थे।बाद में 20 दिन पर समझौता हुआ।अब 26 दिन की हाजरी की मांग किया जा रहा है।जिसमे कम्पनी के तीन दर्जन से अधिक मजदूर शामिल है। इस समय कम्पनी के पास कुल करीब 270 मजदूर यहां काम कर रहे हैं।
कोकिल महतो से मुआवजे की मांग:-
इधर ग्रामीण नेता रामेश्वर तुरी ने कहा कि मृतक जानकी महतो कम्पनी के मजदूर से पहले कोकिल महतो के इट भट्टे का पूरा काम सम्भला करता था।कोकिल महतो को जानकी के परिवार से सहानभूति दिखाकर दस लाख रुपये मुआवजा देना चाहिए।असल मुआवजे का देनदार कोकिल महतो है।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

Leave a Reply