Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा केहूनिया नाला निर्माण

- Sponsored -

सात करोड़ की लागत से बनने वाले नाला 13 वर्षों में भी नहीं हुआ पूर्ण
फॉरेस्ट से एनओसी नहीं मिलने के कारण है बंद काम: ठेकेदार
सकेंद्र प्रजापति
डंडई: डंडई प्रखंड के बौलिया गांव स्थित यूरिया नदी पर लगभग सात करोड़ रुपए की लागत से बन रहा केहूनिया नाला का निर्माण कार्य 13 वर्षों में भी पूरा नहीं हो सका है। इस नाला का निर्माण कार्य भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया। जिससे किसान अपने खेतों की सिंचाई के लिए चिंतित हैं। केहूनिया नाला निर्माण प्रखंड के किसानों की चिरप्रतिक्षित मांग है।
ग्रामीण अशोक प्रसाद आदि ने कहा कि केहूनिया नाला निर्माण कार्य भ्रष्टाचार का भेंट चढ़ गया है। करीब सात करोड़ रुपए की लागत से भी उक्त नाला का निर्माण कार्य पूर्ण नहीं हो सका। कहा कि विभागीय पदाधिकारी और ठेकेदारों व मंत्री, विधायक की मिलीभगत से योजना का पैसा बंदरबांट होने से इनकार नहीं किया जा सकता है। किसानों ने कहा कि जिस उम्मीद से केहूनिया नाला का निर्माण हो रहा था। आज कई दर्जन गांव के किसानों को सिंचाई में काफी राहत मिलती। लेकिन किसानों का सपना टूट गया। कहा कि यदि जिले के पदाधिकारी, मंत्री और विधायक इस पर ध्यान देते तो जल्द ही कार्य पूरा हो जाता। किसानों ने बताया कि विधायक सहित ठेकेदारों की घोर उदासीनता के कारण केहुनिया नाला का पानी लगभग 13 वर्षों में भी उनके खेतों तक नहीं पहुंच पाया। बताते चलें कि वर्ष 2008 में पूर्व स्वास्थ्य मंत्री वर्तमान विधायक भानु प्रताप शाही ने लगभग चार करोड़ की लागत से उक्त नाला का शिलान्यास किया था। उक्त राशि से उक्त नाला का कार्य पूर्ण नहीं हो सका। पुन: उन्होंने 2 दिसंबर 2016 को दो करोड़ 29 लाख रुपये की लागत से बनने वाले अवशेष कार्य का शिलान्यास किया। फिर भी कार्य अधूरा पड़ा है।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

Leave a Reply