Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

9 लाख घरों तक शुद्ध पेयजल पहुंचाने में विभाग ने पाई सफलता : मंत्री

- Sponsored -

वर्ष 2024 तक 59,26,000 घरों में शुद्ध पेयजल पहुंचाने का विभाग का है लक्ष्य
चाईबासा : पेयजल एवं स्वच्छता विभाग मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर के अध्यक्षता में परिसदन सभागार में पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के तहत चाईबासा/चक्रधरपुर/सरायकेला प्रमंडल अंतर्गत संचालित कार्यों का समीक्षा अधीक्षण अभियंता प्रभात कुमार सिंह सहित सभी कार्यपालक अभियंता, सहायक अभियंता की उपस्थिति में किया गया। बैठक में मंत्री ठाकुर ने उपस्थित अभियंता एवं पदाधिकारी को निर्देश करते दिया कि रूटीन मोड में कार्य न करें, अपने कर्तव्य का जिम्मेदारी पूर्वक निर्वहन करें और निर्धारित अवधि से पूर्व योजना का क्रियान्वयन सुनिश्चित करें ताकि निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त किया जाए।बैठक के उपरांत विभागीय मंत्री श्री ठाकुर ने बताया कि क्षेत्र अंतर्गत विभाग का लक्ष्य काफी बड़ा है तथा पड़ोसी राज्यों की तुलना में जल जीवन मिशन के क्रियान्वयन में पीछे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार गठन के उपरांत कोविड-19 वायरस संक्रमण के बावजूद 9,00,000 घरों तक शुद्ध पेयजल पहुंचाने में विभाग ने सफलता पाई है। इसके बावजूद हमारा लक्ष्य बहुत बड़ा है जिसके तहत विभाग को लगभग 59,26,000 घरों में वर्ष 2024 तक शुद्ध पेयजल पहुंचाना है और इसके लिए हम सभी को एक टीम की तरह कार्य करते हुए लक्ष्य को प्राप्त करना है। मंत्री श्री ठाकुर ने कहा कि विभागीय समीक्षा के क्रम में तीनों प्रमंडलों का कार्य संतोषजनक पाया गया, परंतु कार्य में तीव्रता लाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि आने वाले महीनों में विभाग के द्वारा कई बृहद जलापूर्ति योजनाओं का उद्घाटन किया जाएगा और बहुत सारी योजनाएं निविदा प्रक्रिया में है एवं कुछ का कार्य आवंटन भी हुआ है, ऐसी योजनाओं का शिलान्यास भी किया जाना है। मंत्री ने चाईबासा शहरी जलापूर्ति योजना के संदर्भ में कहा कि उक्त योजना पर भी विभाग की विशेष नजर है तथा निर्धारित आगामी दिसंबर माह में अधिकतम घरों में जलापूर्ति संयोजन सुनिश्चित करते हुए इसका लोकार्पण किया जाएगा।पश्चिमी सिंहभूम जिले में पेयजल एवं स्वच्छता विभाग में ग्रामीण लघु ग्रामीण जलापूर्ति योजना वृहद पाइपलाइन जलापूर्ति योजना हर घर नल से जल जल आपूर्ति योजना में भारी पैमाने पर गड़बड़ी लूट और घोटाले को लेकर मंत्री के कडे तेवर के बाद विभाग में हड़कंप मच गया है। 92 करोडी तांतनगर जलापूर्ति योजना में 30 करोड की वित्तीय अनिमितता, कार्य से अधिक राशि की निकासी के आरोप में आरोपी कनीय अभियंता कैलाश राम, एसडीओ मांगीलाल मंडल एवं चाईबासा प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता राजेश शर्मा को निलंबित किया जा चुका है। वही तातनगर जलापूर्ति योजना की ठेका कंपनी चेन्नई की श्री राम ईसीपी कंपनी एवं चाईबासा के चर्चित ब्लैक लिस्टेड ठेकेदार को पेटी पर योजना देकर सरकारी राशि की लूट ,वित्तीय अनियमितता का मामला सामने आने के बाद विभाग और मंत्री के कडे तेवर से ठेकेदार में हड़कंप मचा हुआ है।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

Leave a Reply