Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

हेल्थ वर्कर्स को बूस्टर डोज देने का फैसला सराहनीय: सुशील

- Sponsored -

पटना : बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए हेल्थ वर्कर्स को बूस्टर डोज देने के फैसले की सराहना करते हुए कहा कि बच्चों के लिए 3 जनवरी से शुरू होने वाला टीकाकरण प्रधानमंत्री का क्रिसमस गिफ्ट है।
श्री मोदी ने रविवार को ट्वीट कर कहा कि ओमिक्रॉन वैरियंट वाले केस को देखते हुए हेल्थ और फ्रंटलाइन वर्कर्स एवं 60 साल से ऊपर के को-मोरबीडीटी वालों को बूस्टर डोज देने और 15 से 18 वर्ष के बच्चों को वैक्सीन लगवाने की घोषणा सही वक्त पर लिया गया फैसला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा से बच्चों के टीकाकरण को लेकर अब देश आश्वस्त हो सकता है। उन्होंने कहा कि 3 जनवरी से प्रारम्भ होने वाला बच्चों का टीककरण पीएम का क्रिसमस गिफ्ट है।
भाजपा सांसद ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सदी की सबसे बड़ी महामारी से 130 करोड़ देशवासियों को बचाने के लिए हर बड़ा फैसला यदि बिल्कुल सही वक्त पर न लिया होता, तो जन-धन की बड़ी तबाही होती। भारत में लॉकडाउन लगाने, वैक्सीन विकसित करने और सबको मुफ्Þत टीके की दो डोज लगवाने जैसे निर्णय जान और जहान, दोनों को बचाने वाले साबित हुए।
श्री मोदी ने कहा कि वर्ष 2020-21 वह कठिन समय था, जब केंद्र सरकार एक तरफ अपने चिकित्सा विज्ञानियों और दवा कंपनियों पर भरोसा कर कोरोना के टीके विकसित करने में लगी थी, तो दूसरी तरफ स्वास्थ्य सेवाओं को कोरोना जांच, आक्जीजन, वेंटीलेटर जैसी सुविधाओं से अपडेट भी कर रही थी । उन्होंने कहा कि ऐसे गाढे वक्त में राहुल गांधी, लालू प्रसाद, ममता बनर्जी, अखिलेश यादव और शशि थरूर जैसे विपक्षी नेता स्वदेशी टीके का मजाक उड़ा कर विदेशी दवा कंपनियों के मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव (एमआर) की तरह काम कर रहे थे।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.