Live 7 Bharat
जनता की आवाज

तेलंगाना का चुनाव प्रचार समाप्त,30 को होंगे मतदान

119 सदस्यीय तेलंगाना विधान सभा चुनाव के लिए आज शाम चुनाव प्रचार ख़त्म हो गया

- Sponsored -

चुनाव डेस्क

119 सदस्यीय तेलंगाना विधान सभा चुनाव के लिए आज शाम चुनाव प्रचार ख़त्म हो गया। आज शाम तक बीजेपी ,बीआरएस और कांग्रेस ने राज्य भर में चुनावी रैलियां की और कई जगहों पर रोड शो भी किया। तीनो दलों ने सरकार बनाने का दावा भी किया। तेलंगाना में अभी बीआरएस की सरकार है और और उसे इस बार कांग्रेस और बीजेपी से कड़ी टक्कर मिल रही है। 30 तारीख को मतदान होने हैं जबकि वोटों की गिनती 3 दिसंबर को होने हैं।

बीआरएस ने 2018 के चुनावों में 119 सदस्यीय विधानसभा में 88 सीटें हासिल की थीं। अब यह यहां लगातार तीसरी बार सत्ता में आने की कोशिश कर रही है, जबकि कांग्रेस और भाजपा दोनों सत्ता हासिल करने की कोशिश में हैं। कांग्रेस नेता राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और राज्य कांग्रेस प्रमुख रेवंत रेड्डी ने पार्टी उम्मीदवार मयनामपल्ली हनुमंत राव के समर्थन में हैदराबाद के मल्काजगिरी निर्वाचन क्षेत्र में एक रोड शो के साथ अपना अभियान समाप्त किया।

 

बीआरएस अध्यक्ष और मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने गजवेल निर्वाचन क्षेत्र में आखिरी चुनावी रैली की, जहां से वो फिर से चुनाव लड़ रहे हैं। वो कामारेड्डी से भी चुनाव लड़ रहे हैं। उनके बेटे और बीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष के. टी. रामाराव ने यहां एक चुनावी रैली को संबोधित किया।

 

- Sponsored -

गुरुवार को होने वाले मतदान में 3.26 करोड़ से कुछ अधिक मतदाता वोट डालने के पात्र हैं। 119 सीटों के लिए कुल 2,290 उम्मीदवार मैदान में हैं।मुख्य निर्वाचन अधिकारी विकास राज ने हैदराबाद में संवाददाताओं से कहा कि शाम पांच बजे प्रचार समाप्त हो गया।

 

प्रचार के दौरान तीन प्रमुख राजनीतिक दलों और हैदराबाद में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नेताओं के बीच एक दूसरे पर खूब कीचड़ उछाला गया।

 

- Sponsored -

बीआरएस ने पिछले दो कार्यकालों के दौरान अपने प्रदर्शन के आधार पर नए जनादेश की मांग की है। वहीं कांग्रेस ने पड़ोसी राज्य कर्नाटक में अपनी हालिया सफलता को दोहराने की उम्मीद में छह गारंटियों के साथ मतदाताओं को लुभाने की कोशिश की। जबकि भाजपा ने विकास की गति को तेज करने के लिए डबल इंजन सरकार के लिए एक मौका मांगा और उसने पिछड़े वर्ग से मुख्यमंत्री बनाने का वादा किया।

कांग्रेस और भाजपा दोनों ने पिछले 10 वर्षों के दौरान पारिवारिक शासन और भ्रष्टाचार को लेकर केसीआर पर हमला बोला। बीआरएस ने लोगों को आगाह किया कि कांग्रेस सरकार पिछले एक दशक के दौरान राज्य द्वारा हासिल की गई सभी प्रगति को नष्ट कर देगी। कांग्रेस नेताओं ने बीआरएस, बीजेपी और एआईएमआईएम पर मिलीभगत का आरोप लगाया, जबकि बीजेपी ने दावा किया कि कांग्रेस, बीआरएस और एआईएमआईएम एक साथ मिले हुए हैं।

 

राहुल गांधी ने 23 सार्वजनिक सभाओं को संबोधित करते हुए कांग्रेस के प्रचार अभियान का नेतृत्व किया। उनकी बहन प्रियंका गांधी ने 26 रैलियां की। मुख्यमंत्री चेहरे के रूप में देखे जाने वाले रेवंत रेड्डी ने राज्य के कई हिस्सों में 55 सार्वजनिक सभाओं को संबोधित किया। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दारमैया, उप मुख्यमंत्री डी.के. शिवकुमार, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, अभिनेता-राजनेता विजयशांति, जो हाल ही में भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए, ने भी पार्टी के लिए प्रचार किया।

 

बीआरएस सभी 119 सीटों पर अपने दम पर चुनाव लड़ रही है। कांग्रेस ने एक सीट भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के लिए छोड़ी है। भाजपा ने 111 निर्वाचन क्षेत्रों में उम्मीदवार खड़े किए हैं और शेष आठ को अभिनेता-राजनेता पवन कल्याण के नेतृत्व वाली अपनी सहयोगी जन सेना पार्टी  के लिए छोड़ दिया है। बहुजन समाज पार्टी सभी सीटों पर चुनाव लड़ रही है।बीआरएस की सहयोगी एआईएमआईएम नौ निर्वाचन क्षेत्रों में मैदान में है, सभी हैदराबाद में। राज्य के बाकी हिस्सों में उसने बीआरएस को समर्थन देने की घोषणा की है।

भाजपा की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जे.पी.नड्डा ने राज्य भर में चुनावी रैलियों को संबोधित किया। सोमवार को राज्य में तीन दिवसीय अभियान का समापन करने वाले मोदी ने आठ सार्वजनिक बैठकों को संबोधित किया और एक रोड शो किया।

 

आठ दिनों तक प्रचार करने वाले अमित शाह ने 17 सार्वजनिक बैठकों को संबोधित किया और सात रोड शो किए। नड्डा ने आठ सार्वजनिक बैठकों को संबोधित किया और तीन रोड शो में भाग लिया। केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, नीतीश गडकरी, निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, अनुराग सिंह ठाकुर, साध्वी निरंजन ज्योति, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा, गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और अन्य नेताओं ने पार्टी के लिए प्रचार किया। इनपुट वार्ता के साथ

 

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: