Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

मॉर्निंग कंसल्ट एजेंसी ने ग्लोबल लीडर्स की लोकप्रियता को लेकर किया सर्वे,75 परसेंट रेटिंग के साथ देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शीर्ष स्थान

- Sponsored -

पीएम मोदी के बाद दूसरे नंबर पर मेक्सिको के राष्ट्रपति आंद्रेज एम ओब्राडोर
नई दिल्ली : देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर से ग्लोबल लीडर्स की लिस्ट में नंबर वन बने हैं। मॉर्निंग कंसल्ट सर्वे के अनुसार पीएम मोदी को ग्लोबल लीडर्स में 75% अप्रूवल रेटिंग मिली है। सर्वे में पीएम मोदी के बाद, मैक्सिकन राष्ट्रपति एंड्रेस मैनुअल लोपेज ओब्रेडोर 63 प्रतिशत और इतालवी प्रधान मंत्री मारियो ड्रैगी 54 प्रतिशत रेटिंग के साथ क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे। 22 विश्व नेताओं की सूची में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन 41 प्रतिशत अप्रूवल रेटिंग के साथ पांचवें स्थान पर हैं। लिस्ट में बाइडन के बाद कनाडा के राष्ट्रपति जस्टिन ट्रूडो 39 प्रतिशत और जापानी प्रधान मंत्री फुमियो किशिदा 38 प्रतिशत अप्रूवल रेटिंग मिली है।
जनवरी 2022 में भी पीएम मोदी थे नंबर- 1: मॉर्निंग कंसल्ट पॉलिटिकल इंटेलिजेंस वर्तमान में आॅस्ट्रेलिया, आॅस्ट्रिया, ब्राजील, जर्मनी, भारत, मैक्सिको, नीदरलैंड, दक्षिण कोरिया, स्पेन, स्वीडन और संयुक्त राज्य अमेरिका में सरकारी नेताओं और देश के प्रक्षेपवक्र की अनुमोदन रेटिंग पर नजर रख रहा है। इससे पहले जनवरी 2022 में और नवंबर 2021 में, प्रधान मंत्री मोदी दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेताओं की सूची में सबसे ऊपर थे। यह मंच राजनीतिक चुनावों, निर्वाचित अधिकारियों और मतदान के मुद्दों पर वास्तविक समय के मतदान डेटा प्रदान करता है। मॉर्निंग कंसल्ट प्रतिदिन 20,000 से अधिक ग्लोबल इंटरव्यू आयोजित करता है।
अमेरिका में सैंपल साइज 45 हजार : वैश्विक नेता और देश ट्राजेक्टरी डेटा किसी दिए गए देश में सभी वयस्कों के सात-दिन के औसत पर आधारित है। जिसमें गलती का अंतर +/- 1-4 प्रतिशत के बीच है। यूएसए में, सैंपल साइज लगभग 45,000 का है। अन्य देशों में, सैंपल साइज लगभग 500-5,000 के बीच होता है। सर्वे में व्यस्कों के प्रतिनिधि सैंपल नेशनल लेवल पर आॅनलाइन लिए जाते हैं। भारत से लिए गए सैंपल में आबादी के साक्षर हिस्से को शामिल किया गया है।
सर्वे में उम्र, जेंडर और क्षेत्र को महत्व : सर्वे में हर देश में उम्र, जेंडर, क्षेत्र और कुछ देशों में आधिकारिक सरकारी स्रोतों के वेटेज दी जाती हैं। वहीं कुछ देशों में एजुकेशन ब्रेकडाउन सरकार सूत्रों के आधार पर होता है। संयुक्त राज्य अमेरिका में, सर्वेक्षणों को नस्ल और जातीयता के आधार पर भी महत्व दिया जाता है। उत्तरदाता इन सर्वेक्षणों को अपने देशों के लिए उपयुक्त भाषाओं में पूरा करते हैं।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.