Live 7 Bharat
जनता की आवाज

परम्परागत पूजन-अर्चन के साथ ग्रीष्मकाल को केदारनाथ धाम के कपाट खुले

- Sponsored -

श्रीकेदारनाथ धाम: देवभूमि उत्तराखण्ड स्थित भगवान शंकर के पांचवें ज्योतिर्लिंग के रूप में विश्व विख्यात बाबा केदारनाथ धाम के कपाट शुक्रवार प्रात: शुभ मुहूर्त में 06 बजकर 26 मिनट पर खोल दिए गए। सुंदर पुष्प मालाओं से सजे धाम में पहली पूजा मुख्यमंत्री पुष्कर ंिसह धामी की उपस्थिति में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से की गई। अब आज के बाद ग्रीष्मकाल के लिये छह माह तक यहीं बाबा केदारनाथ के दर्शन हो सकेंगे।
प्रात: लगभग 04 बजे से ही धाम में जय बाबा केदार के उद्घोष लगने शुरू हो गये। वैदिक मंत्रोच्चारण और विधि विधान से बाबा केदार की उत्सव डोली पर मुख्य पुजारी ने भोग लगाया और नियमित पूजाएं कीं। जिसके बाद डोली को सजाया गया। केदारनाथ रावल भीमाशंकर ंिलग, वेदपाठियों, पुजारियों, हक्क हकूकधारियों की मौजूदगी में कपाट पर वैदिक परंपराओं के अनुसार मंत्रोच्चारण के साथ 6 बजकर 26 मिनट पर कपाट खोले गए और डोली को मंदिर में प्रविष्ट किया गया।
इससे पहले, पुजारियों व वेदपाठियों ने गर्भगृह में साफ सफाई की और भोग लगाया। इसके बाद मंदिर के अंदर पूजा-अर्चना की गई। सेना की बैंड की धुनों के साथ पूरा केदारनाथ भोले बाबा के जयकारों से गुंजायमान हो गया। इस दौरान केदारनाथ धाम के रावल भीमाशंकर ंिलग और मुख्यमंत्री पुष्कर ंिसह धामी सहित बदरीनाथ-केदारनाथ मन्दिर समिति के सदस्य भी उपस्थित रहे।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: