Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

बीएचयू में आनलाइन कक्षाओं के लिए कुलपति आवास के बाहर छात्रों का प्रदर्शन तेज

- Sponsored -

वाराणसी: काशी हिंदू विश्वविद्यालय में अब आनलाइन कक्षाएं चलाने की मांग को लेकर छात्रों का आंदोलन सोमवार को तीसरे दिन और तेज हो गया है। रविवार के अवकाश के बाद विश्वविद्यालय खुलने के पश्चात कुलपति आवास के बाहर प्रदर्शनकारी छात्रों की संख्या बढ़ गई है। वहां छात्रों का एक समूह शनिवार की शाम से ही बेमियादी अनशन पर बैठा हुआ है। दर्जनों छात्र-छात्राओं ने पहले दिन केंद्रीय कार्यालय पर अनशन करने के बाद शाम से कुलपति आवास (वीसी लाज) पर आमरण अनशन शुरू कर दिया था, जो तीसरे दिन सोमवार को और तेज होता नजर आ रहा है।
कोरोना की तीसरी लहर को लेकर बीएचयू में आनलाइन ही कक्षाएं शुरू हुई थीं। जब तीसरी लहर शांत हुई तो छात्रों ने आफलाइन कक्षाएं शुरू करने के लिए आंदोलन किया। छात्रों के दबाव में विश्वविद्यालय प्रशासन को कक्षा आफलाइन शुरू करनी पड़ी। अब नए छात्रों ने आनलाइन कक्षाओं की मांग कर दी है। इनका कहना है कि अंतिम सेमेस्टर-वर्ष के छात्रों का सिलेबस लगभग पूरा हो चुका है। इसी बीच एकाएक आफलाइन की नोटिस से उनकी मुश्किलें बढ़ गई हैं, खासकर छात्राओं की। उनका कहना है कि अब परीक्षा मात्र दो माह ही बाद ही होनी है। ऐसे में उन्हें दो माह के लिए कोई पीजी या कमरा देने के लिए तैयार नहीं हो रहा है।
अगर तैयार भी हो रहे हैं तो दोगुना किराया मांगा जा रहा है। जब उनका आखिरी सेमेस्टर जनवरी में शुरू हुआ तो विभाग की ओर से बताया गया कि इस बार भी कक्षाएं आनलाइन मोड और परीक्षाएं ओबीई मोड में होंगी। इस बात को ध्यान में रखकर छात्रों ने अपने गृह जनपद में ही अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं जेईएसटी, बीएआरसी, पीजी इंट्रेंस आदि का केंद्र आवेदन में दिया है। ये सभी परीक्षाएं भी अप्रैल व मई माह में होने वाली हैं। ऐसे में उन्हें बार-बार वाराणसी आने व अपने गृह नगर जाने की समस्या उठानी पड़ेगी। इससे छात्र-छात्राओं को आर्थिक, शारीरिक और समय प्रबंधन में समस्याओं का सामना करना पड़ेगा।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.