Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

मदन मोहन मालवीय को उनकी जयंती पर देश ने किया नमन

- Sponsored -

नयी दिल्ली :महान स्वतंत्रता सेनानी, शिक्षाविद् और समाज सुधारक ‘महामना’ पंडित मदन मोहन मालवीय की जयंती पर शनिवार को देश ने उनको नमन किया।
उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित राजनीति और शासन से जड़े प्रमुख लोगों ने महामना की जयंती पर संदेश जारी कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की तथा उनके महान व्यक्तित्व और कृतीत्व का स्मरण किया।
शिक्षा और समाज सेवा क्षेत्र से जुड़े लोगों ने भी मलवीय जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि दी।
उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने ट्वीटर पर लिखा, ‘‘महान स्वतंत्रता सेनानी और राष्ट्रवादी पंडित मदन मोहन मालवीय की जयंती पर आज मैं उन्हें अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। वह प्रखर शिक्षाविद, उच्च कोटि के विद्वान और समाज सुधारक थे। शिक्षा के क्षेत्र में अपने उल्लेखनीय योगदान के लिए उन्हें सदैव याद किया जाएगा।’’ प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संदेश में कहा,‘‘महान स्वतंत्रता सेनानी, शिक्षाविद् और समाज सुधारक महामना पंडित मदन मोहन मालवीय जी को उनकी जयंती पर कोटि-कोटि नमन।’’ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने श्रद्धांजलि संदेश में कहा, ‘‘महान स्वाधीनता संग्राम सेनानी , उत्कृष्ट शिक्षाविद, भारतीय संस्कृति के जीवंत संवाहक केंद्र ‘काशी हिन्दू वश्वविद्यालय’के संस्थापक, ‘भारत रत्न’ मदन मोहन मालवीय जी को उनकी जयंती पर कोटिश: नमन। महामना का व्यक्तित्व एवं त्यागमय जीवन हमें सदैव प्रेरणा देता रहेगा।’’ भाजपा नेता मनजीत सिंह सिरसा ने कहा, ‘‘मालवीय जी महान शिक्षाविद थे। यह मालवीय जी ही थे जिन्होंने बनारस ंिहदू विश्वविद्यालय की आधारशीला रखने के लिए सिख संत बाबा अतर सिंह जी, मस्तुवाना साहिब को आमंत्रित किया था।’ मालवीय जयंती पद देश भर में जगह जगह अनेक कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं।
मालवीय जी 25 दिसम्बर 1861 से 12 नवंबर 1946 काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रणेता युग के आदर्श पुरुष भी थे। उन्हें महामना की उपाधि से विभूषित किया गया। उन्होंने अपना जीवन पत्रकारिता, वकालत और समाज सुधार के कार्यों के माध्यम से मातृ भाषा तथा दे सेवा में समर्पित किया।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.