Live 7 Bharat
जनता की आवाज

कोर्ट के आदेश के बाद चर्चित डिप्टी कलेक्टर निशा बांगरे का त्यागपत्र स्वीकृत

2018 बैच की अधिकारी निशा ने चुनाव लड़ने के लिए दिया था त्यागपत्र

- Sponsored -

दिल्ली डेस्क

हाईकोर्ट के आदेश के बाद मध्यप्रदेश सरकार ने डिप्टी कलेक्टर निशा बांगरे का त्यागपत्र स्वीकार कर लिया है. इसके साथ ही विभागीय जांच भी समाप्त कर दी गई है. राज्य प्रशासनिक सेवा की अधिकारी निशा बांगरे मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले में डिप्टी कलेक्टर के पद पर थी. माना जाता हैं कि निशा बांगरे इस्तीफा देकर बैतूल जिले के आमला से विधानसभा चुनाव चुनाव लड़ना चाहती थी परन्तु राज्य सरकार उनका इस्तीफा स्वीकार नहीं कर रही थी. सामान्य प्रशासन विभाग की ओर से सोमवार को श्रीमती बांगरे का त्यागपत्र स्वीकार करने संबंधी आदेश जारी कर दिया गया. इसमें कहा गया है कि श्रीमती बांगरे ने इसी वर्ष 12 सितंबर को त्यागपत्र स्वीकार किए जाने का निवेदन किया था. सरकारी सेवा से त्यागपत्र सोमवार को स्वीकृत किया जा चुका है. उनकी विभागीय जांच संबंधी मामले का भी निपटारा कर दिया गया है.

- Sponsored -

छतरपुर जिले में डिप्टी कलेक्टर के रूप में पदस्थ रहीं श्रीमती निशा बांगरे के बारे में अटकलें थीं कि वे बैतूल जिले के आमला (अजा) विधानसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ना चाहती हैं. इसलिए उन्होंने सरकारी सेवा से अपना त्यागपत्र दे दिया था, लेकिन यह काफी समय तक स्वीकृत नहीं हो पाया. इसके चलते उन्हें अदालत की शरण लेना पड़ी. इस बीच कांग्रेस ने आमला को छोड़कर सभी 229 सीट पर प्रत्याशी घोषित कर दिए थे. परन्तु एक दिन पहले आमला से मनोज मालवे को कांग्रेस ने अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया गया. नामांकनपत्र दाखिले की अंतिम तिथि 30 अक्टूबर है.
अब सबकी निगाहें इस बात पर टिकी हैं कि क्या कांग्रेस अपना प्रत्याशी बदलेगी या फिर श्रीमती बांगरे चुनाव लड़ने के संबंध में अन्य विकल्प पर विचार करेंगी.

इनपुट : वार्ता

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: