Live 7 Bharat
जनता की आवाज

अयोध्या जन्मभूमि परिसर में अभेद्य होगी रामलला की सुरक्षा

भगवान श्री राम की नगरी अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर विराजमान रामलला की सुरक्षा अत्याधुनिक सुरक्षा मशीनों के साथ अभेद्य होगी

- Sponsored -

न्यूज़ डेस्क

भगवान श्री राम की नगरी अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर विराजमान रामलला की सुरक्षा अत्याधुनिक सुरक्षा मशीनों के साथ अभेद्य होगी।श्रीराम जन्मभूमि परिसर में स्थायी सुरक्षा समिति की बैठक में निर्णय लेते हुए सभी ने कहा कि श्री राम जन्मभूमि परिसर में आधुनिक सुरक्षा मशीनों के साथ अभेद्य सुरक्षा होगी। बैठक में 22 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन को लेकर सुरक्षा पर चर्चा भी हुई, क्योंकि प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम प्रधानमंत्री के द्वारा ही सम्पन्न होना है।

सुरक्षा के लिये 40 करोड़ रुपये से राम मंदिर की सुरक्षा अत्याधुनिक सुरक्षा मशीनों के साथ अभेद्य होगी। रामलला की सुरक्षा प्राण प्रतिष्ठा को लेकर स्थायी सुरक्षा समिति में काफी चर्चा की गयी। प्रवेश और निकास द्वार मूवमेंट प्लान गेस्ट को परिसर तक लाना व वीआईपी मूवमेंट पर भी काफी गहन चर्चा हुई।

- Sponsored -

- Sponsored -

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पांच जनवरी से श्रद्धालुओं को अत्याधुनिक इक्यूमेंट सुरक्षा के घेरे से नियमित तौर पर गुजरना होगा। बैठक सुरक्षा की चुनौतियों और पिछले कुछ महीनों में आये सुरक्षा के परिदृश्य और आगामी दिनों में सुरक्षा को लेकर बैठक में बेहतर सुरक्षा व्यवस्था प्रदान करने के लिये बैठक की गयी है। सभी सुरक्षा एजेंसी अलग-अलग तरीके से कार्य कर रही है।
इस कार्य की सुरक्षा सीआरपीएफ, सीआईएसएफ और पीएससी को दी गयी है। उन्होंने बताया कि अलग-अलग जिम्मेदारियां आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का भी सहारा लिया जायेगा। विभिन्न तकनीकों के माध्यम से सर्विलांस के द्वारा भी सुरक्षा व्यवस्था रहेगी।
इसके लिए व्यावहारिक प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। फोर्स के लोगों की सुरक्षा एवं सत्कार हो सके इस पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। राम जन्मभूमि परिसर की स्थायी सुरक्षा समिति की बैठक में एडीजी सुरक्षा, एडीजी जोन, आईजी अयोध्या, एसएसपी के साथ सीआरपीएफ के डीजी, एसएसपी व पीएसी समेत इंटेलिजेंट के अधिकारी के साथ फैजाबाद के मंडलायुक्त, आईजी अयोध्या, जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के साथ-साथ ट्रस्ट के सदस्य भी शामिल थे।
गौरतलब है कि राम जन्मभूमि परिसर में स्थायी सुरक्षा समिति की बैठक प्रत्येक तीन माह पर होती है जिसमें सुरक्षा समिति के अधिकारी ही भाग लेते हैं। इस बार बाइस जनवरी को राम जन्मभूमि परिसर में रामलला का प्राण प्रतिष्ठा समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आगमन है इसलिए सुरक्षा में कोई चूक न होने पाये इसका विशेष ध्यान दिया जा रहा है।
Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: