Live 7 Bharat
जनता की आवाज

खसरा जांच के लिए पटना एम्स होगा राज्य का पहला लैब : मंगल

- Sponsored -

पटना: पटना के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में संक्रामक बीमारी मीजल्स (खसरा) की जांच के लिए राज्य में पहला लैब स्थापित किया गया है।
स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने मंगलवार को यहां बताया कि सरकार स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ करने की दिशा सभी आवश्यक कार्रवाई कर रही है । राज्य सरकार जहां हर बीमारी और रोगियों को लेकर गंभीर है वहीं खसरा (मीजल्स) जैसी संक्रामक बीमारी के लिए सरकार की ओर से नई पहल की गई है। उन्होंने बताया कि मीजल्स की जांच के लिए पहले राज्य में लैब नहीं था, जिससे मीजल्स रोग प्रबंधन में चिकित्सकों को परेशानी होती थी लेकिन स्वास्थ्य विभाग की पहल से इस समस्या को दूर कर लिया गया है। अब मीजल्स का लैब कन्फर्मेटरी टेस्ट एम्स, पटना में किया जा सकेगा।
श्री पांडेय ने बताया कि राज्य के सभी जिलों से संदिग्ध रोगियों के सैंपल एम्स भेजे जाएंगे और फिर उसकी जांच की जाएगी । आम लोगों को ध्यान में रखते हुए यह जांच पूरी तरह नि:शुल्क की जाएगी। उन्होंने कहा कि पूर्व में मीजल्स की जांच सुविधा उपलब्ध नहीं होने के कारण लक्षणों के आधार पर इलाज होता था लेकिन जांच सुविधा उपलब्ध होने से ससमय मीजल्स की पहचान हो सकेगी एवं रोग का अधिक प्रभावी प्रबंधन हो सकेगा।
स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि विभाग शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के प्रति गंभीर है। इसको ध्यान में रखते हुए नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में मीजल्स के टीके को भी शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य, अधीक्षक एवं सिविल सर्जन को मीजल्स के सभी संभावित मामलों के सैंपल एम्स, पटना में लैब कन्फर्मेशन के लिए भेजने का निर्देश दिया गया है ताकि मीजल्स रोगियों को यथाशीघ्र चिकित्सकीय लाभ प्राप्त हो सके।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: