Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

मानव तस्करी जागरूकता सप्ताह अभियान के तहत् जिला स्तरीय क्विज प्रतियोगिता का आयोजन

मानव तस्करी पर विशेष अभियान

- Sponsored -

IMG 20220915 WA0008 1

सिमडेगा:- जिले में पुलिस प्रशासन के द्वारा मानव तस्करी पर विशेष अभियान की शुरूआत की गई। मानव तस्करी जैसी जटली समस्या से मुक्त करने की दिशा में पुलिस प्रशासन के द्वारा जागरूकता के अनेकों आयामों को प्रदर्शित किया जा रहा है। महिला, पुरूष, युवक-युवतियां, छात्र-छात्राएं हर वर्ग के लोगों को मानव तस्करी के प्रति जागरूक किया जा रहा है। सुदरवर्ती क्षेत्र से भी मानव तस्करी करने की हिमाकत कोई न कर सके, इस ओर पुरी मेहनत एवं लगन के साथ सभी थाना स्तर पर कार्य किया जा रहा है।

IMG 20220915 WA0009

नगर भवन में मानव तस्करी जागरूकता सप्ताह अभियान के तहत् जिला स्तरीय क्विज प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। पुलिस प्रशासन के द्वारा एक ओर मानव तस्करी, बालश्रम एवं अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अत्याचार के विरूद्ध जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है, वहीं छात्र-छात्राओं के बौद्धिक ज्ञान के अभिरूचि को जागृत करने का भी कार्य किया जा रहा है। प्रखण्डों से चयनित होकर जिला स्तर पर क्विज प्रतियोगिता में भाग लिए छात्रों से बारी-बारी सामान्य ज्ञान के प्रश्न पुछे गए। कई प्रश्नों के उत्तर छात्रों ने दिया तो कई प्रश्नांे के जवाब ऑडियनस दे दिया। मानव तस्करी पर नाट्क का मंचन किया गया। मानव तस्करी के आपबिती पर प्रकाश डाला गया।

- Sponsored -

- Sponsored -

IMG 20220915 WA0007

उपायुक्त आर. रॉनीटा ने पुलिस प्रशासन के द्वारा मानव तस्करी के प्रति सफल प्रयासों की प्रशंसा की। उन्होने कहा कि जेएसएलपीएस के द्वारा मानव तस्करी पर नुक्कड़ नाट्क किया गया,  के बच्चों को दिखाया गया कि मानव तस्करी कितनी जटली समस्या है। अबतक मानव तस्करी पर किए गए जागरूक कार्यक्रम से आप सभी ने जाना-समझा है, कि गांव-समाज के लिए मानव तस्करी को जड़ से खत्म करना क्यूं जरूरी है। उन्होने कहा कि बच्चें घर-परिवार, गांव-समाज एवं देश के भविष्य है। पीढ़ी के कुप्रथाओं को भविष्य की पीढ़ी से दूर रखना है। जिला प्रशासन के द्वारा बच्चें के साथ जागरूकता अभियान को ज्यादा महत्व दिया जाता है, क्यूंकि बच्चे स्वंय के साथ-साथ अभिभावक को भी बताएं, आने वाले सोसाईटी में जब आप 18 प्लस के हो जाएं, तब आप वो गलतियां न करें, जिससे घर, परिवार, गांव, समाज को नुकसान हो। अब की तुलना में पहले साक्षरता दर कम थी। जिसके कारण भी मानव तस्करी को पनपने में बल मिला। मानव तस्करी को जागरूकता अभियान के साथ-साथ इस तरह के जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से कम किया जा सकता है। पुलिस प्रशासन के द्वारा मानव तस्करी पर ज्यादा से ज्यादा कार्रवाई की जाए। उन्होने बच्चों से कहा कि जो आपने इस कार्यक्रम के माध्यम से सिखा उस मैसेज को गांव-समाज में औरों को बताएं। जो आउट ऑफ स्कूल हो उन्हे विद्यालय से जोड़े। आप अपने गांव-समाज के रोल मॉडल बनें।

IMG 20220915 WA0006

पुलिस अधीक्षक सौरभ ने कहा कि कई ऐसी कुरीतियां है, जो गांव-समाज से निकल कर आ रहीं है। मानव तस्करी, बालश्रम एवं अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अत्याचार, दहेज प्रथा, महिला उत्पीड़न, डायन प्रथा ये सब कहीं न कहीं सामाजिक कुरीतियां है। कुरीतियों का हीं परिणाम है कि ये सब समाज में पनप रहें, फैल रहें। इन सब कुरीतियों को खत्म करने के लिए कानूनी कार्रवाई के साथ-साथ समाज को भी आगे आना होगा। समाज को आगे बढ़ाने में अगर किसी का सबसे बड़ा योगदान है तो बच्चों का होता है। इस कार्यक्रम के माध्यम से बच्चों को मुख्य रूप से आगे लाया गया है। आज के बच्चें कल का भविष्य है। बच्चे तय करेंगे कि आगे घर, परिवार, गांव-समाज, जिला, राज्य एवं देश किस दिशा में जाएगा। यह बच्चें तय करेंगें अभिभावक नही। अगर आपमें से कोई बच्चा अच्छा करता है तो उस घर-परिवार की जो स्थिति है वो बदल जाएगी। आए दिन देखने को मिलता है किसी ने शिक्षा में, नौकरी में या अन्य आयामों में अच्छा किया, ये कहीं न कही स्वंय के साथ-साथ घर की सफलता है हीं, लेकिन सिमडेगा जिला का भी नाम उससे रोशन होता है। यह बहुत बड़ी बात है कि हमारे जिले के बच्चे अच्छे कर रहें है। शिक्षा के साथ-साथ समाज में फैली कुरीतियों के प्रति भी आपको जागरूक होना जरूरी है।क्विज प्रतियोगिता में बेहतर प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्रों को प्रशस्ति पत्र, मोमेन्ट एवं विजेता कप देकर सम्मानित किया गया। मंच संचालन मनोज कुमार सिन्हा ने किया।कार्यक्रम में पुलिस प्रशासन के पदाधिकारी, डीपीएम जेएसएलपीएस, एस बी आई बैंक के पदाधिकारी, शिक्षक, शिक्षिकाएं, विद्यालय के बच्चे व अन्य उपस्थित थें।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Leave A Reply