Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

“ॐ आदित्याय विदमहे प्रभाकराय धीमहितन्न: सूर्य प्रचोदयात् ।।”

लोक आस्था, प्रकृति पूजन का महापर्व छठ....

- Sponsored -

IMG 20221030 WA0077

Ravikant Mishra

लोक आस्था का महापर्व छठ प्रकृति से जुड़ने का एक उत्सव है। यह सिसकती संस्कृति और मिटते नदियों और तालाबों के लिए भी एक आस है। आपके शहर में छठ व्रती सांस्कृतिक अतिक्रमण और नदियों पर कब्जे की नियत से नहीं उमड़ते हैं। यह तो पलायन की मजबूरी और परंपराओं से जुड़ाव के नाते घाटों का रुख करते हैं। यहां लोग प्रदूषण फैलाने नहीं, बल्कि नदियों की सफाई और सनातन संस्कृति के चेतना जागरणार्थ आते हैं। यहां न तो प्लास्टिक और न ही किसी रसायन का कोई उपयोग होता है। यहां तक कि यह पूजा प्रदूषण के अन्य माध्यमों से भी मुक्त है। लोगबाग यहां श्रद्धा से खिंचे और भक्ति के रंग रंगे चले आते हैं।

IMG 20221030 WA0048

- Sponsored -

प्राचीन आख्यानों में महापर्व छठ का वृहद वर्णन मिलता है। पुराणों में वर्णित राजा ऐल की कथा में सूर्योपासना है। वैसे इस पर्व की शुरुआत बिहार के मगध क्षेत्र से है। इस अनूठे पर्व में लोक भाषा में रचे गीतों के सहारे पूजा संपन्न की जाती है। जहां सूर्यदेव संग छह कृतिकाओं की पूजा होती है। इसलिए इस प्रकृति पूजा को सूर्यषष्ठी भी कहते हैं। वैसे इसका लोकप्रिय नाम छठ पूजा है। इसे जनप्रिय बनाने में सर्वाधिक योगदान यहां के एक विशेष वर्ग का है जिन्होंने वेदों के सूर्य स्तुति और मंत्रों को लोक काव्य में रचा। इनकी कई प्रमुख बस्तियां आज भी पुरातात्विक महत्व के सूर्यमंदिरों के आसपास है।

- Sponsored -

IMG 20221030 WA0085

बदलते दौर में अब छठ पूजा को लेकर नजरिया भी बदला है। पहले जहां श्रद्धालु अपने गांव लौटते थे तथा मिल-जुल कर नदी, पोखर के किनारों पर छठ पूजा करते थे, वहीं पुरबिया का यह पर्व वैश्विक हो चला है। बिहार, झारखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल के तराई क्षेत्र में प्रवासियों के साथ वहां तक पहुंचा यह पर्व अब सात समंदर पार तक मनाया जा रहा है। पुरबिया गिरमिटियों की संतानें अफ्रीका और न्यूजीलैंड के तटीय द्वीपों से कैरेबियन देशों तक इसे हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं। शहर दर शहर की इस यात्रा में अब छठ पूजा मुंबई के समंदर किनारे जुहू चौपाटी से लेकर अहमदाबाद में साबरमती रिवरफ्रंट से लेकर लंदन के टेम्स किनारे तक मनाई जाती है।

IMG 20221030 WA0086

आखिर सामूहिकता में विश्वास सूर्य में श्रद्धा और गंगा यमुना तट पर आस्था को आप कैसे रोक सकते हैं? छठ एक ऐसा पर्व है जिसे बिना लोगों के सहयोग के संपन्न नहीं किया जा सकता। प्रसाद बनाने, अर्ध्य देने और छठ गीत गाने तक के लिए रिश्तेदार और परिचित लोग चाहिए। इस पर्व में छठ घाट तक प्रसाद से भरी टोकरी को सिर पर ढोकर लाने और ले जाने का विधान है। वहीं छठ गीतों में संयुक्त परिवार, गांव, प्रकृति और सार्थक सामाजिक संदेश होते हैं। बिखरते परिवार, उजड़ते गांव वाले दौर में भी छठ व्रती अपने लिए एक प्यारी बेटी और दूसरों के लिए सौभाग्य मांगते हैं। ऐसे सभी उपक्रम परिवार व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए हैं। इससे सामाजिक जुड़ाव और लगाव भी बढ़ता है।

IMG 20221030 181401

छठ पर्व ने समय के साथ दूसरे सांस्कृतिक समुदायों को भी आकर्षित किया है। इसका एक बड़ा कारण इसके सीधे सरल रिवाज और इसका गीत संगीत का होना भी है। सामाजिक संदेश वाहक ये गीत मिट्टी की महक लिए भक्तिभाव से भरे पूरे हैं। संभवतः इसलिए इन गीतों को गाने गुनगुनाने का लोभ लोग छोड़ नहीं पाते हैं। अभी पिछले वर्ष छठ पर्व पर एक विदेशी बाला का गाया गीत इंटरनेट पर काफी लोकप्रिय हुआ था। ठीक ऐसा ही एक गीत अप्रवासी भारतीयों द्वारा लंदन के टेम्स किनारे से गा कर लोकप्रिय किया गया था। बढ़ते पलायन के बीच नई जगह नए परिवेश में हो रहा छठ पूजा भी चर्चा में है।आखिर नए जगह नए लोगों के बीच इस उत्सव को कैसे मनाया जाए यह प्रयास अब आगे बढ़कर लोगों को प्रकृति पर्व से जोड़ने का एक उपक्रम भी बना है। बस आवश्यकता इसे लोकप्रिय बनाने की है। यह सूर्योपासक रहे जाति और समुदायों को सनातन धर्म और भारत वर्ष के पास लाने का एक माध्यम भी बन सकता है, यह आवश्यक भी है और प्रासंगिक भी।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.