Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

ओडिशा में पांच चरणों में होगा पंचायत चुनाव

- Sponsored -

भुवनेश्वर: ओडिशा के राज्य चुनाव आयुक्त एपी पाधी ने मंगलवार को पंचायत निकायों के लिए पांच चरणों में चुनाव कराने की घोषणा की। चुनाव 16,18,20,22 और 24 फरवरी को होंगे।
श्री पाधी ने यहां पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि तीन स्तरीय पंचायत निकायों के चुनाव की अधिसूचना 13 जनवरी को जारी की जाएगी।नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया 17 जनवरी से 21 जनवरी तक होगी। साथ ही 22 जनवरी को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी, जबकि नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि 25 जनवरी तय की गई है। उम्मीदवारों की अंतिम सूची 25 जनवरी को जारी की जाएगी।मतदान एक-एक दिन के अंतराल के साथ पांच चरणों में आयोजित किया जाएगा। पहले चरण के लिए मतदान 16 और अंतिम चरण का मतदान 24 फरवरी को होगा। वहीं मतगणना 26, 27 और 28 फरवरी को होगी।
उन्होंने ने कहा कि 9193 वार्ड सदस्यों, 6793 पंचायत समिति सदस्यों, 6794 सरपंच सदस्यों और 853 जिला परिषद सदस्यों के चुनाव के लिए लगभग 2.79 करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे।
मतदान का समय एक घंटा बढ़ा दिया गया है और यह सुबह सात बजे से दोपहर एक बजे तक चलेगा। पिछले पंचायत चुनाव में मतदान सुबह सात बजे से दोपहर 12 बजे के बीच हुआ था।
राज्य चुनाव आयोग ने कहा कि कोविड महामारी को देखते हुए, आयोग ने विस्तृत कोविड दिशानिर्देश जारी किए हैं। चुनाव अभियान में सभी प्रकार के जुलूसों, सार्वजनिक और राजनीतिक बैठकों, सभाओं, पदयात्रा और बाइक रैलियों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। आयोग ने हालांकि अधिकतम पांच सदस्यों को घर-घर जाकर प्रचार करने की अनुमति दी है।
श्री पाधी ने कहा कि राज्य में मंगलवार से आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है, जो अगले महीने 28 फरवरी तक जारी रहेगी।
आयोग ने कहा कि उम्मीदवार, चुनाव अभियान में डिजिटल मीडिया, वर्चुअल मोड में बैठकें कर सकते हैं। साथ ही आयोग ने चेतावनी दी है कि दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने पर सख्ती से निपटा जाएगा और आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी।
आयोग ने कहा कि चुनाव के सुचारू संचालन के लिए पिछली बार की तरह इस बार भी पुलिस बलों की लगभग 200 प्लाटून तैनात की जाएगी।
उन्होंने कहा कि आयोग कार्यालय में एक कॉल सेंटर स्थापित किया जाएगा, जो सुबह नौ बजे से शाम छह बजे तक चलेगा। इसके अलावा नियंत्रण कक्ष सुबह आठ बजे से रात नौ बजे तक चलेगा।
श्री पाधी ने कहा कि नए संशोधन के अनुसार अगर उम्मीदवार नामांकन में फर्जी अकादमिक रिकॉर्ड जमा करते हैं, तो उन्हें दंडित किया जाएगा।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.