Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

नोवामुंडी: बालाजी आयरन ओर माइंस 5 दिन बीत जाने के बावजूद नहीं हुई कार्रवाई

- Sponsored -

खान सचिव पूजा सिंघल प्रकरण का मामला शांत भी नहीं हुआ पश्चिमी सिंहभूम जिला  फिर खनन घोटाले से जुड़ा
 
 खदान की लीज समाप्त होने के बावजूद सरकारी प्रावधान कानूनों का उल्लंघन कर भारी पैमाने पर किया गया अवैध खनन , लौह अयस्को का भंडारण
 

- Sponsored -

 विभाग की भूमिका हमेशा से रहे संदिग्ध खनन विभाग और पदाधिकारियों के संरक्षण में खदानों में होता रहा अवैध खनन, लौह अयस्क पत्थरों की चोरी तस्करी और कारोबार

- Sponsored -

 
 अवैध खनन कारोबार करने वाले खदान संचालकों सफेदपोशो को मिला संरक्षण जिले में अरबों खरबों का हुआ लौह अयस्क घोटाला
चाईबासा / रांची : झारखंड की खान सचिव पूजा सिंघल को खनन और मनरेगा घोटाला आदि को लेकर निलंबित कर दिया गया है। पूजा सिंघल नोट कांड के बाद खान सचिव रही पूजा सिंघल को गिरफ्तार कर लिया गया है। ईडी की कार्रवाई जारी है। सूबे में हुए  खनन घोटालों की जांच चल रही है। आरोप है कि खान सचिव पूजा सिंघल के कार्यकाल में खनन विभाग  के माध्यम से जिलों में लौह अयस्क ,पत्थरों एवं खनिज संपदाओं की लूट और कमीशन खोरी भारी पैमाने पर चल रही थी। खनन विभाग के संरक्षण में खदान संचालकों द्वारा भारी पैमाने पर लौह अयस्क पत्थरों की लूट की जा रही थी और  सरकार को चूना लगाया जा रहा था एवं लौह अयस्क, पत्थर खदानों से भारी-भरकम राशि खनन पदाधिकारियों के माध्यम से ऊपर तक पहुंचाई जा रही थी। पश्चिमी सिंहभूम जिला में अरबों खरबों का घोटाला लौह अयस्क का अवैध खनन चोरी तस्करी कारोबार परिवहन और खनन की आड़ में वन पर्यावरण को नुकसान पहुंचाया गया है। लौह अयस्क के अवैध खनन चोरी तस्करी कारोबार से सरकार को अरबों खरबों के राज्य भारी राजस्व की क्षति हुई है।  बीच पश्चिमी सिंहभूम जिला में नोवामुंडी स्थित बालाजी आयरन ओर माइंस में नियम कानून को ताक पर रखकर सरकारी प्रावधानों कानूनों का उल्लंघन कर प्लीज समय सीमा समाप्ति से पूर्व भारी पैमाने पर लौह अयस्क का अवैध खनन और भंडारण किया गया था जिसकी सूचना पर 9 मई को खनन विभाग ने छापामारी की थी ।मगर 5 ,6 दिन बीत जाने के बावजूद लौह अयस्क का अवैध खनन करने , भंडारण करने और लौह अयस्क का अवैध कारोबार करने वाले लोगों पर कोई कार्यवाई नहीं हुई।
पश्चिमी सिंहभूम जिले के नोवामुंडी बस्ती स्थित बालाजी आयरन और माइस संचालक अनिल खिरवाल द्वारा खनन विभाग के साथ मिल कर अवैध रूप से अवैध खनन कर लाखों टन लौह अयस्क भंडारण का मामला प्रकाश में आया था । उक्त खदान में रात दिन अवैध खनन किया गया है। दो अलग-अलग स्थानों पर लौह अयस्क भंडारण करने के अलावा कई छोटे छोटे स्टॉक्स के द्वारा नोवामुंडी के बालाजी आयरन ओर माइंस और पिनाकल ट्रेडर्स के लौह अयस्क खदान की लीज समाप्ति से पहले लाखों टन लौह अयस्क अन्यत्र स्टॉक करके बेचा ।माइंस की लीज अवधि 30 अप्रैल 2022 के समाप्ति से पहले पिछले तीन चार महीनों में वार्षिक खनन क्षमता 74 हजार टन यानि प्रत्येक महीने 6.1 मैट्रिक टन लौह अयस्क खनन करना था। लेकिन यहां खनन प्रावधानों को ताक में रखकर लाखों टन को विभिन्न प्लॉट में स्टॉक किया गया, ताकि खदान बंद हो जाने के बाद भी लौह आयस्को को बेचा जा सके। 30 अप्रैल 2022 को समाप्त होनी थी। यहां अंतिम समय में सभी खदानों की लीज विस्तारीकरण के प्रस्ताव को रद्द कर दिया। से ज्यादा लौह अयस्क की हेराफेरी किया गया था। इसी तरह से अनिल खिरवाल के अंकित खिरवाल को लौह अयस्क का खत्म होने के बाद बालाजी मईस के लो इसके बाद भी खदान प्रबंधन ने क्षमता के बाहर में हजारों टन लौह अयस्क ग्रेड लंप और फाइंस की डिमांड बढ़ी। ऐसे से अधिक खनन करने का काम  खदान मालिक बृहत स्तर पर खनन कर तेजी से खनन कर लौह अयस्क को बेचना चाह रहे थे। 2020 से  घोटाले की कहानी शुरू हुई थी । वर्ष 2020 में अनिल खिरवाल ने सरकारी प्रावधानों को ताक में रखकर लौह अयस्को का भंडारण किया । खनन क्षमता विस्तारीकरण 74 हजार से 3 छह महीनों की खनन प्रक्रिया का बायोडाटा लाख टन करने का प्रस्ताव रखते हुए माईस में लोक सुनबाई कराया। लौह अयस्क घोटाले को अंजाम देने के लिए नोवामुंडी बस्ती पिनाकल ट्रेडर्स अनिल खिरवाल माईस की माइनिंग लीज ने इस छोटे से 19.331 हेक्टर में  स्टॉक 75 हजार टन के लिए के विक्रेता अनिल खिरवाल ने अपने बेटे खरीददार बनाया गया है। यहाँ चारदीवारी कर भंडारण किया गया है। इसी तरह से बोकना स्थित राजश्री मिनरल स्टॉकिंग यार्ड में लगभग 50 हजार टन लौह अयस्क का परिवार के लोगों को खरीददार बनाकर फर्जीवाड़ा किया गया है और खनन विभाग के संरक्षण में
माइनिंग प्लान की रिजेक्ट करते हुए  और खदान बंदी होने बेतहाशा तौर पर लौह अयस्को का खनन किया गया। नोआमुंडी बड़ाजामदा  खदान क्षेत्रों में लौह अयस्क के अवैध खनन भंडारण छोरी तस्करी खनन विभाग के संरक्षण में भारी पैमाने पर होता रहा है और खनन विभाग की भूमिका हमेशा से संदिग्ध रही है।
Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Leave A Reply