Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

एम्बुलेंस का दुरूपयोग बर्दाश्त नहीं: राजीव प्रताप रुडी

एंबुलेंस में शराब पकड़े जाने के बाद राजीव प्रताप रूडी की सफाई

- Sponsored -

• एम्बुलेंस के संचालन के लिए पंचायत स्तर पर बनी है समिति, दुरूपयोग के लिए समिति के सदस्य जिम्मेदार
• अवैध काम में संलिप्त बीआर 04 पीए – 3405 नंबर के एम्बुलेंस के संचालकों पर कड़ी कार्रवाई की बात कही।
* कड़ी कार्रवाई के लिए जिलाधिकारी को लिखा पत्र
• एम्बुलेंस का दुरूपयोग करने वालों के प्रति जिलाधिकारी को कड़ी कार्रवाई करने को कहा।
• पंचायत चुनाव के मद्देनजर किसी एम्बुलेंस के दुरूपयोग में संलिप्त निःवर्तमान जनप्रतिनिधि या स्थानीय लोगों पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।
• जिलाधिकारी की निगरानी में जिला संचालन समिति के पदेन अध्यक्ष डीडीसी और सचिव मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी होते है।
• पंचायत स्तर पर मुखिया के की अध्यक्षता में संचालन समिति में पंचायत सचिव सचिव और एएनएम और विकास मित्र सदस्य होते है।
• अवैध काम में संलिप्त मिली पंचायत एम्बुलेंस सेवा की गरखा विधान सभा के कोटवापट्टी रामपुर पंचायत की एम्बुलेंस

सारण, 15 सितम्बर 2021 । आमजनता को त्वरित स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए सारण सांसद राजीव प्रताप रुडी ने सारण में अपनी तरह का अनूठा एम्बुलेंस सेवा आरंभ किया था जिसका विधिवत संचालन वर्ष 2019 से हो रहा है। पूरे देश के लोकसभा क्षेत्र में कही भी इस तरह की एम्बुलेंस सेवा उपलब्ध नहीं है जिसका संचालन एक केंद्रीकृत नियंत्रण कक्ष से होता है। केंद्रीकृत संचालन सुविधा होने के बावजूद यह सुनिश्चित करना मुश्किल होता है कि कोई गाड़ी का दुरूपयोग कर रहा है या नहीं। कोटवापट्टी रामपुर पंचायत को सांसद निधि से दी गई एम्बुलेंस सेवा का दुरूपयोग करने करने की बात सांसद के संज्ञान में आने पर आज सारण में एक प्रेस वार्ता कर सांसद रुडी ने इस संदर्भ में तकनीकी तथ्य और प्रमाण उपलब्ध कराते हुए पत्रकारों को तकनीकी पहलुओं से अवगत कराया और एम्बुलेंस को जब्त करने वाले स्थानीय पुलिस बल की सराहना करते हुए अवैध कार्य में संलिप्त दोषियों को कड़ी सजा देने की बात कही।
सांसद रुडी ने संवाददाता सम्मेलन में पत्रकारों को बताया कि एक एम्बुलेंस गैर कानूनी कार्य करता हुआ पाया गया जिसे त्वरित कार्रवाई कर स्थानीय पुलिस ने गाड़ी को जब्त कर लिया है। इसके लिए उन्होंने स्थानीय पुलिस बल की सराहना की और कहा कि इन वाहनों से यदि कोई अवैध कार्य किया जाता है तो उसकी जिम्मेदारी पूरी तरह से पंचायत संचालन समिति की होती है। उन्होंने कहा कि जब इस प्रकार की परिकल्पना मैने की थी तब जिलाधिकारी की निगरानी में इसके लिए जिला स्तर पर एक संचालन समिति का गठन किया गया था जो अब भी कार्य कर रहा है। जिला के उप विकास आयुक्त इसके पदेन अध्यक्ष और सचिव मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी होते है। इसके अंतर्गत जिला योजना पदाधिकारी, लेखा पदाधिकारी, पंचायती राज पदाधिकारी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक, जिला अनुश्रवण एवं मुल्यांकन पदाधिकारी और संचालन समन्वयक सदस्य होते है।
इस समिति के अंतर्गत इच्छुक पंचायतों को एक-एक एम्बुलेंस आवंटित किया गया था और इसके सुगम संचालन के लिए जिला संचालन समिति की निगरानी में पंचात स्तर पर मुखिया के नेतृत्व में पंचायत संचालन समिति का गठन किया गया। आज सांसद ने बताया कि बीआर 04 पीए – 3405 नंबर के एम्बुलेंस को अवैध काम में संलिप्त होने के कारण पुलिस ने जब्त कर लिया है। स्थिति को स्पष्ट करते हुए सांसद ने कहा कि यह एम्बुलेंस जिस ग्राम पंचायत को आवंटित किया गया था। उन्होनें कहा कि राज्य में अभी ग्राम पंचातों के चुनाव की घोषणा हो चुकी है ऐसे में जो भी निवर्तमान जन प्रतिनिधि या स्थानीय लोग वाहन का दुरूपयोग करने में संलिप्त पाये जाते है उनपर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। सांसद ने प्रेस वार्ता में एम्बुलेंस संचालन से संबंधित सभी दस्तावेजों के साथ ही एम्बुलेंस के लिए मुखिया द्वारा प्राप्त आवेदन, एकरारनामा और शर्तांे के साथ दिये गये एम्बुलेंस की प्राप्ती रसीद भी पत्रकारों को दिखाई। एम्बुलेंस संचालन से जुड़े सभी जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों द्वारा शर्तों पर हस्ताक्षर किये गये कागजात भी पत्रकारों को दिखाया।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

Leave a Reply