Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

नक्सलियों का झारखंड-बिहार बंद 27 जनवरी को

- Sponsored -

रांची/गिरिडीह: भाकपा मावोवादी संगठन ने केंद्रीय कमिटी व पोलित ब्यूरो सदस्य कामरेड किशन दा उर्फ प्रशांत बोस तथा उनकी पत्नी केंद्रीय कमिटी सदस्या शिला मरांडी की गिरफ्तारी व जेल यातनाएं के विरुद्ध 21 जनवरी से लेकर 26 जनवरी तक प्रतिरोध दिवस तथा 27 जनवरी को 24 घंटे के लिए झारखण्ड-बिहार बंद का आह्वान किया है। संगठन के प्रवक्ता आजाद ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बंद का एलान किया है।विज्ञप्ति में निवेदक के स्थान पर आजाद प्रवक्ता,बिहार झारखण्ड स्पेशल एरिया कमिटी भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मावोवादी लिखा हुआ है। हलाकि प्रेस विज्ञप्ति में पत्रांक दिनांक अंकित नही है।
इधर बिहार झारखण्ड स्पेशल एरिया कमिटी भाकपा मावोवादी संगठन के प्रवक्ता आंनद ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर लिखा है कि भाकपा मावोवादी केंद्रीय कमिटी के पोलित ब्यूरो सदस्य तथा पूर्वी रीजनल ब्यूरो सचिव 77 वर्षीय किशन दा उर्फ प्रशांत बोस तथा उनकी पत्नी केंद्रीय कमिटी सदस्या 65 वषीर्या शिला मरांडी की गिरफ्तारी चांडिल स्थित टोल प्लाजा से किया गया था। संगठन के वयोवृद्ध नेता लकवा, शुगर,गठिया बात, पीठ दर्द से ग्रसित है। यही नही बगैर सहारा न ही उठ बैठ पाते है और न ही चल पाते है। गिरफ्तारी के बाद स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के बजाय दोनों को जेल की काल कोठरी में बंद कर दिया गया है। गिरफ्तारी के बाद लगभग दो महीने पूरे होने के बाद भी सरकार द्वारा स्वास्थ्य सुविधा मुहैया नही कराया गया है। संगठन ने अमानवीय यातनाएं के खिलाफ तथा समुचित स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने के साथ साथ राजनीतिक बंदी का दर्जा देने का आह्वान किया है। जारी प्रेस विज्ञप्ति में वयोवृद्ध नक्सल नेता किशन दा उर्फ प्रशांत बोस तथा शिला मराण्डी की गिरफ्तारी व जेल में अमानवीय यातनाएं के विरुद्ध 21 जनवरी से लेकर 26 जनवरी तक प्रतिरोध दिवस तथा 27 जनवरी को झारखण्ड बिहार 24 घंटे यानी एक दिन के लिए बन्द का एलान किया गया है।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.