Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

नेशनल लोक अदालत का हुआ उद्घाटन, 29 लोगों को मिली नौकरी

- Sponsored -

धनबाद : हमारा संविधान हर लोगों को सामाजीक, आर्थिक एवं सस्ता सुलभ न्याय की गारंटी देता है । नेशनल लोक अदालत संविधान के परिकल्पना को पूरी करने के दिशा में एक कदम है ।उक्त बातें शनिवार को धनबाद सिविल कोर्ट में आयोजित वर्ष 21 के तिसरे नेशनल लोक अदालत के उद्घाटन के मौके पर प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह चेयरमैन डालसा राम शर्मा ने कही। इसके पूर्व सुबह 10:30 बजे जिला विधिक सेवा प्राधिकार के चेयरमैन सह प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश राम शर्मा, बीसीसीएल के डायरेक्टर पर्सनल पी भी के आर मल्लिकार्जुन राव, एसएसपी संजीव कुमार, बार अध्यक्ष अमरेंद्र सहाय ने नेशनल लोक अदालत का उद्घाटन किया।प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने कहा की लोक अदालत में महीनों कोर्ट का चक्कर लगाने और पैसे की बबार्दी से बचा जा सकता है. इससे लोगों को मानसिक शांति भी मिलती है. इसके साथ ही प्रेम और सौहार्द आपस में फिर से बन जाता है। लोगों मे प्रेम ,शाति ,समृद्धि और समरसता बनी रहे यही इस लोक अदालत का मुख्य उद्देश्य है! उन्होने कहा की 23 नवम्बर 2013 से पूरे देश में नेशनल लोक अदालत का आयोजन हर तीन माह मे किया जा रहा है। राष्ट्रीय लोक अदालत आम आदमी के हित के लिये लगाये जाते हैं। बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अमरेन्द्र कुमार सहाय ने कहा की लोक अदालत के माध्यम से व्यापक पैमाने पर मुकदमों का निष्पादन किया जा रहा है। जिसमें समय की बचत के साथ-साथ वादकारियों को विभिन्न कानूनी पचड़ों से मुक्ति मिल रही है।
बीसीसीएल के डायरेक्टर पर्सनल पी भी के आर मल्लिकार्जुन राव ने कहा कि डालसा द्वारा किया जा रहा है यह एक बहुत सराहनीय कार्य है। बीसीसीएल इस कार्य में हर संभव मदद कर रहा है ।और आगे भी करेगा ।उन्होंने कहा कि लोक अदालत एक ऐसा मंच है जहां तत्काल प्रभाव में मामला सेटेल हो जाता है और विवाद आगे नहीं बढ़ पाता।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

Leave a Reply