Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

चौरसिया की हुई हत्या,दोषियों को मिलेगी सजा :शाह

- Sponsored -

कोलकाता : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भारतीय जनता पार्टी के नेता अर्जुन चौरसिया की मौत को ‘राजनीतिक हत्या’ करार देते हुए ममता बनर्जी नीत तृणमूल कांग्रेस पर राजनीतिक विरोधियों को निशाना बनाने का आरोप लगाया।
इससे पहले श्री शाह शुक्रवार को भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) नेता अर्जुन चौरसिया के आवास पर पहुंचे, जिनका शव उत्तरी कोलकाता के काशीपुर में फंदे से लटका मिला है। उनके साथ पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी, भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष सुकांत मजूमदार और गृह राज्य मंत्री निशीथ प्रमाणिक भी युवा नेता चौरसिया के घर पहुंचे। मौके पर पहुंचे लोगों ने घटना की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने की मांग की।
बंगाल के दो दिवसीय सरकारी यात्रा पर पहुंचे श्री शाह श्री चौरसिया के परिवार से मिलने के लिए पहुंचे और कहा कि भाजपा उनके साथ ‘चट्टान की तरह’ खड़ी रहेगी तथा कहा कि इस बारे में केंद्र ने राज्य से रिपोर्ट मांगी है।
श्री चौरसिया (26) काशीपुर में भाजपा की युवा शाखा के नेता थे। शुक्रवार तड़के एक बंद पड़े रेलवे क्वार्टर में उनका शव फांसी के फंदे से लटका पाया गया था।.
इस बीच, तृणमूल कांग्रेस के नेता अतिन घोष ने दावा किया कि श्री चौरसिया उनकी पार्टी के कार्यकर्ता थे और उन्होंने निकाय चुनाव के दौरान पार्टी के लिए सक्रिय रूप से काम किया था।
श्री शाह ने कहा कि दोषियों को दंडित किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि मामला केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को सौंप दिया जाना चाहिए।
गृह मंत्री ने कहा, ‘‘गृह मंत्रालय ने घटना का गंभीरता से संज्ञान लिया है और पश्चिम बंगाल सरकार से रिपोर्ट मांगी है।’’ श्री शाह ने कहा कि चौरसिया के परिवार ने आरोप लगाया कि उनकी बेरहमी से हत्या की गई।
श्री शाह ने कहा,‘‘तृणमूल सरकार ने अभी एक साल पूरा किया है और सत्ता हासिल करने के अगले ही दिन पश्चिम बंगाल में राजनीतिक ंिहसा और राजनीतिक हत्याओं की परंपरा फिर से शुरू हो गई है। पूरे बंगाल में, हम जहां भी जाते हैं, राजनीतिक ंिहसा, प्रतिशोध हत्या और विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं को निशाना बनाने के कई उदाहरण सामने आते हैं।’’ उन्होंने कहा,‘‘भाजपा अर्जुन चौरसिया की हत्या की कड़ी ंिनदा करती है, हम सुनिश्चित करेंगे कि चौरसिया की हत्या के दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए।’’ उन्होंने सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस पर ंिहसा की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा इससे लड़ रही है और आगे भी लड़ती रहेगी। उन्होंने कहा,‘‘मैं बंगाल के लोगों को बताना चाहता हूं, भाजपा इसके खिलाफ लड़ रही है। बंगाल में, विपक्ष की आवाजों को दबाना या उन्हें ंिहसा से डराना कोई नई बात नहीं है। पहले यह कम्युनिस्ट शासन के तहत होता था, अब तृणमूल कांग्रेस के शासन में उत्साह के साथ यह विरासत जारी है।’’ श्री शाह ने अपने आगमन से ठीक पहले चौरसिया के शव को ले जाने पर हुई हाथापाई को लेकर पुलिस और अधिकारियों की भी आलोचना की और कहा कि पोस्टमार्टम कैमरे की निगरानी में होना चाहिए। उन्होंने कहा,‘‘मैं पीड़ति परिवार से मिला। चौरसिया की दादी को भी पीटा गया। चौरसिया का शव परिवार से छीन लिया गया। भाजपा कार्यकर्ता कैमरे पर शव के पोस्टमार्टम की मांग के लिए अदालत गए हैं। जांच सीबीआई को दी जानी चाहिए।’’ गौरतलब है कि कोलकाता पुलिस की एक स्पेशल टास्क फोर्स ने चौरसिया परिवार की इच्छा के खिलाफ शव को उत्तर कोलकाता के सरकारी स्वामित्व वाले आर जी कर अस्पताल में पोस्टमॉर्टम के लिए अपने कब्जे में ले लिया। परिवार ने उनसे शाह के आने तक इंतजार करने का भी आग्रह किया था, लेकिन अधिकारी नहीं माने।
पुलिस बल और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच घंटो तक चली खींचतान के बाद पुलिस चौरसिया के शव को दोपहर करीब 12 बजकर 50 मिनट पर अपने साथ ले गई।
भाजपा की वकील प्रियंका तिबरेवाल ने पीड़तिा की मां को शहर के उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर अर्जुन चौरसिया के पोस्टमॉर्टम को निलंबित करने की मांग की। इस आशंका से कि मौत के सबूतों से छेड़छाड़ की जा सकती है।
श्री शाह ने कहा,‘‘चुनाव के बाद कई हत्याएं हुई हैं। वे संदेश दे रहे हैं कि वे नहीं रुकेंगे। भाजपा ंिहसा की राजनीति में विश्वास नहीं करती है और न ही इससे डरती है। हम कानून की अदालत में सुनिश्चित करेंगे कि हत्यारों को सजा दी जाय।’’ उन्होंने कहा कि तृणमूल डर का माहौल बनाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा,‘‘मैंने परिवार से बात की, वे आहत हैं, बेटे को खोने से और प्रशासन के व्यवहार से भी। भाजपा परिवार के साथ चट्टान की तरह खड़ी रहेगी।’’ चौरसिया के परिवार के अनुसार वह गुरुवार को काम से लौटकर बाहर गया था, लेकिन वापस नहीं लौटा। परिवार ने यह भी दावा किया कि उन्हें दो मई, 2021 से धमकियां मिल रही थीं।
भाजपा सांसद और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने आरोप लगाया कि चौरसिया की हत्या के बाद उन्हें फांसी पर लटकाया गया।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Leave A Reply