Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

योजनाओं के शिलापट्ट पर सांसद गीता कोड़ा का नाम नहीं रहने से कांग्रेसियों के बवाल पर झामुमो में उबाल

- Sponsored -

विपक्षी दल की भूमिका निभा रही कांग्रेस, सरकार की छवि को किया जा रहा धूमिल: सुखराम उरांव

चाईबासा : योजनाओं के शिलापट्ट पर सांसद गीता कोड़ा का नाम नहीं रहने से कांग्रेसियों द्वारा किए गए बवाल से झामुमो में भारी नाराजगी है। शुक्रवार को चक्रधरपुर विधायक सह झामुमो जिलाध्यक्ष सुखराम उरांव ने अपने आवासीय कार्यालय बनमालीपुर में प्रेस कांफ्रेंस करते हुए शिलापट्ट विवाद में बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि स तरह कांग्रेस ने शिलापट्ट पर नाम नहीं रहने से विवाद शुरू किया है. उससे लगता है कि गठबंधन में शामिल कांग्रेस विपक्षी की भूमिका निभा रही है। इतना ही नहीं उन्होंने सरकार की छवि को भी धूमिल करने का काम किया है।
विधायक सुखराम उरांव ने कहा कि शिलापट्ट को लेकर वर्षों राज्य की जो भी योजना है, उसके नहीं है। विभाग भी उसी मापदंड से विवाद उठते आ रहा है। इसको उद्घाटन या शिलान्यास के का पालन किया है। इसके बावजूद लेकर पिछले वर्ष 8 अगस्त 2021 शिलापट्ट पर मुख्यमंत्री विभागीय जिस तरह की हरकत की गई है, झारखंड सरकार ने उद्घाटन को लेकर मापदंड तय किया है शिलान्यास घाटन में स्थानीय एवं विभागीय मंत्री , बीस सूत्री के प्रभारी मंत्री और स्थानीय विधायक की उपस्थिति शिलापट्ट में नाम अनिवार्य है। सांसद कि नहीं। जिस तरह कांग्रेसी सरकार के खिलाफ काम कर रहे हैं और पुतला दहन विरोध कर रहे हैं उससे लगता है कि गठबंधन में कहीं ये सरकार को अस्थिर करने की साजिश तो नहीं है।
उन्होंने कहा कि काम से नाम होता है, नाम लिखवा कर नाम नहीं होगा। लेकिन शायद उन्हें योजना में अपना नाम देना है और श्रेय लूटना है कहीं से भी सांसद भूमिका उचित नही है।
उन्होंने कहा कि 2024 में लोकसभा और विधानसभा का चुनाव है
उसको लेकर कही छलांग मारने
मारने का प्लान तो नहीं है। उन्होंने कहा कि मैंने इस पूरे प्रकरण की राज्य सरकार को जानकारी दे दी है।

*आरईओ कर रहा है अच्छा काम बाधित करने की हो रही कोशिश

- Sponsored -

विधायक उरांव ने कहा कि जिले में आरईओ से बेहतर कार्य हो रहा है चक्रधरपुर विधानसभा में कार्य प्रगति पर है। कहीं न कहीं उन्हें भी बाधित करने का प्रयास हो रहा है। विभाग को दबाव देकर कहीं अपना स्वार्थ सिद्धि करने का प्लान तो नहीं है। यदि ऐसा कार्यकर्ताओं में है तो उनसे निवेदन है कि बिना सोचे समझे ऐसा कदम नहीं उठाएं। हम गठबंधन में है, इसका पालन करना चाहिए। जिस तरह कांग्रेस हंगामा कर रही है, लगता है यह विरोधी दल है उरांव ने कहा कि कांग्रेस द्वारा पुतला दहन करना गलत था। पुतला दहन तब किया जाता है जब राज्य सरकार तक मामला पहुंचाना रहता है। उन्होंने कहा कि जिस तरह कांग्रेसियों ने विभाग को चोर है भ्रष्टाचार है का नारा लगाया है, वह सरकार को भी चोर कहने के बराबर है।

- Sponsored -

*कोरोना काल में सेवा से भाग रहे थे कांग्रेसी: झामुमो

विधायक ने कहा कि पूरे कोरोना काल में कभी भी कसी दिखा नहीं है। इतना का नाम या उपस्थिति अनिवार्य विधायक उरांव ने सवाल उठाया है ही नहीं सांसद से एक भी योजना चक्रधरपुर को मिला नहीं है। उन्होंने कहा कि रेल की अंडरपास रेलवे से बनता और उसकी खर्च केंद्र सरकार देती है। यदि सांसद का थोड़ी भी प्रयास रहता तो अंडरपास बन जाता। बड़ी दुख की बात है राज्य सरकार को रेल को पैसा देना पड़ रहा है। सांसद यदि बात को रखती तो भारत सरकार से बन गया होता, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं किया गया है।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.