Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

विशेष केंद्रीय सहायता योजना समिति की बैठक अयोजित ,सुदूर क्षेत्रों में कोचिंग एवं लाइब्रेरी खोलने निर्णय

गढ़वा। अति उग्रवाद प्रभावित क्षेत्रों में योजनाओं की चयन एवं विकास की गति को तेज करने के लिय शुक्रवार को विशेष केंद्रीय सहायता योजना समिति की बैठक उपायुक्त राजेश कुमार पाठक की अध्यक्षता में अयोजित की गई। बैठक में नक्सल प्रभावित क्षेत्रों व पिछड़े इलाकों में रह रहे आमजनों के हित व आवश्यकता के मद्देनजर समिति के सदस्यों द्वारा कई योजनाओं का प्रस्ताव दिया गया। बैठक में शिक्षा, स्वास्थ्य एवं पोषण, कृषि एवं जल संसाधन तथा कौशल विकास संबंधित क्षेत्रों से योजनाओं का चयन करने का निर्णय लिया गया। पुलिस अधीक्षक ने पिछड़े इलाकों के खाली पड़े भवन में पब्लिक लाइब्रेरी के निर्माण का प्रस्ताव दिया। सीआरपीएफ कमांडेंट ने कोचिंग इंस्टिट्यूट प्रारंभ करने की बात कही गई। उपायुक्त ने जिला शिक्षा पदाधिकारी को नक्सल प्रभावित अथवा पिछड़े क्षेत्रों के ऐसे विद्यालय जिन्हें मरम्मत की आवश्यकता हो का प्रस्ताव देने का निर्देश दिया। स्वास्थ्य एवं पोषण के क्षेत्र में चर्चा के क्रम में सिविल सर्जन ने जर्जर हेल्थ- सब- सेंटर के जीर्णोधार तथा उसमें पानी, बिजली व पहुंच पथ की व्यवस्था कराने की बात कही, जिस पर उपायुक्त ने उन्हें उक्त संदर्भ में प्रस्ताव जिला विकास शाखा को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। बैठक में उपायुक्त ने जिला समाज कल्याण पदाधिकारी से पूर्व में एससीए के तहत चयनित योजना जिसमें 50 आंगनबाड़ी केंद्रों को मॉडल आंगनबाड़ी केंद्र के रूप में विकसित किया जाना था।उसकी  कार्य प्रगति के विषय में जानकारी ली। जिला समाज कल्याण पदाधिकारी ने बताया कि इन पर कार्य जारी है। उपायुक्त ने उन्हें जल्द से जल्द कार्य पूर्ण कराते हुए 50 और नए आंगनबाड़ी केंद्र को मॉडल आंगनवाड़ी केंद्र के रूप में विकसित करने हेतु उसका प्रस्ताव उपलब्ध कराने का निर्देश दिया।  सीआरपीएफ कमांडेंट व उप विकास आयुक्त ने आवश्यकताओं के अनुसार कुछ क्षेत्रों में सड़क निर्माण का प्रस्ताव भी दिया। बैठक में उपायुक्त राजेश कुमार पाठक के अलावा पुलिस अधीक्षक एस एस खोटरे,  केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के कमांडेंट, उपविकास आयुक्त एस एन उपाध्याय, निदेशक डीआरडीए, सिविल सर्जन डॉ कमलेश सिंह सहित कई  पदाधिकारी मौजूद थे।
Looks like you have blocked notifications!

Leave a Reply