Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

मान मन्नौवल करते थक गये अधिकारी पर नही चालू करा पाये कोयला खुदाई व ढुलाई

- Sponsored -

विरान कोयला खदान में दिनभर लहराता रहा आदिवासियों द्वारा गाड़ा गया चोड़का
पाकुड़: जिले के अमड़ापाड़ा अंतर्गत पचुवाड़ा नॉर्थ कोल ब्लॉक से विस्थापितों को उनका वाजिब हक दिलाने की मांग को लेकर दुसरे दिन भी कोयला खदान से न तो कोयला की ढुलाई हुई और न ही उसका परिवहन हो पाया। आंदोलन में शामिल ग्रामीणों के अलावे इनका नेतृत्व कर रहे मानव अधिकार जनजागृति कल्याण परिषद के नेताओ का मान मन्नौवल करते अधिकारी थक गये लेकिन इनकी एक नही सुनी गयी।

- Sponsored -

18 PKR 5

विस्थापितों को मुआवजा देने, एकरारनामा के मुताबिक सभी शर्तो को पूरा करते हुए बुनियादी और मुलभुत सुविधाए मुहैया कराने आदि मांगों को लेकर मंगलवार को परिषद के अध्यक्ष मुन्ना हेम्ब्रम, विजय हेम्ब्रम, तुलसी दास बास्की, सोम हेम्ब्रम, जुनस टुडू, दानियल मुर्मू, पत्रास हांसदा, हरेंद्र प्रसाद ठाकुर, बीटी एंजेल तारा हेम्ब्रम, मंटु मुर्मू सहित दर्जनों वक्ताओं ने पश्चिम बंगाल पावर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड एवं बीजीआर माइनिंग एंड इंफ्रा लिमिटेड के पदाधिकारियो एवं जिला प्रशासन के खिलाफ विस्थापितों को उनका वाजिब हक नही दिलाने का आरोप लगाते हुए साफ चेतावनी दी कि जबतक विस्थापितों को उनका हक नही मिल जाता कोयला उत्खनन और परिवहन नही होने दिया जायेगा। मंगलवार को ग्रामीणों द्वारा पचुवाड़ा नॉर्थ कोल ब्लॉक क्षेत्र में चोड़का गाड़ दिये जाने के कारण कोई कामकाज नही हुआ। कोयला खुदाई में शामिल मशीने जहां दिनभर खड़ी रही तो इसका संचालन करने वाले कर्मचारी भी दुर दुर तक नही दिखाई दिये। एसडीओ पंकज कुमार, एसडीपीओ नवनीत एंथोनी हेम्ब्रम, पुलिस निरीक्षक सह अमड़ापाड़ा थाना प्रभारी मनोज कुमार के अलावे संतोष कुमार, दिनेश प्रसाद चैरसिया, अमरजीत पांडेय के अलावे सैकड़ो की संख्या की संख्या में जवान पचुवाड़ा नॉर्थ कोल ब्लॉक एरिया में दिनभर तैनात रहे। एसडीओ, एसडीपीओ, पुलिस निरीक्षक द्वारा आंदोलन का नेतृत्व कर रहे नेताओ एवं विशनपुर के ग्रामीणो से वार्ता कर आंदोलन खत्म करने एवं कोयला खुदाई और ढुलाई चालु कराने का प्रयास किया गया लेकिन इसका परिणाम बेनतिजा रहा। मानव अधिकार जनजागृति कल्याण परिषद के अध्यक्ष मुन्ना हेम्ब्रम ने कहा कि कोयला उत्खनन और परिवहन करने वाली कंपनी को सीधे विस्थापितो से बात करना होगा और उनकी हर जायज मांगो को पूरा करना होगा तभी कोयला कारोबार सुचारू रूप से चल पायेगा। उन्होने कहा किा कोयला कंपनी कुछ दलालो के इशारे पर काम कर रही है जिसके चलते वास्तविक रैयतो को उनका हक नही मिल पा रहा है। श्री हेम्ब्रम ने कहा कि कोल कंपनी के सीएमडी को विस्थापितो के साथ वार्ता करना ही पड़ेगा। समाचार भेजे जाने तक कोयला का उत्खनन और परिवहन चालु नही हो पाया है।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.