Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

योग को अपने जीवन का हिस्सा बनायें व रोग मुक्त रहें: पटेल

- Sponsored -

अहमदाबाद : अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने मंगलवार को सभी नागरिकों से योग को अपने जीवन का हिस्सा बनाने और योग को अपनाकर रोग मुक्त रहने की अपील की है।
श्री पटेल की अध्यक्षता में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का राज्य स्तरीय समारोह अहमदाबाद के साबरमती रिवरफ्रंट इवेंट सेंटर में आज सुबह आयोजित किया गया जिसमें 7500 लोगों ने हिस्सा लिया। इस मौके पर उन्होंने कामना की कि स्वतंत्रता का अमृत पर्व स्वास्थ्य का अमृत बने और योग सबके जीवन में अमृत का संचार करे।
उन्होंने इस अवसर पर कहा कि इस वर्ष प्रधानमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी के मार्गदर्शन में देश स्वतंत्रता का अमृत पर्व मना रहा है तब साबरमती रिवरफ्रंट, स्टैच्यू आॅफ यूनिटी, कच्छ का सफेद रण तथा मोढेरा सूर्य मंदिर जैसे राज्य के धार्मिक, पर्यटन, ऐतिहासिक और शैक्षणिक महत्व तथा प्राकृतिक सौंदर्य वाले 75 आइकॉनिक स्थलों पर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस विशेष रूप से मनाया गया।
श्री भूपेंद्र पटेल ने बताया कि इस अवसर पर राज्य के नागरिकों ने प्रत्येक गांव, तहसील, शहर, जिला, नगर पालिका और महानगर पालिका के साथ-साथ स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय, स्वास्थ्य केंद्र, पुलिस मुख्यालय, राज्य की जेलें तथा सभी सार्वजनिक स्थानों पर बड़ी तादाद में इकट्ठा होकर स्वस्थ राष्ट्र के निर्माण में आज अपना अमूल्य योगदान दिया। जब पूरी दुनिया विशाल जनभागीदारी के साथ योग दिवस मना रही है तब गुजरात के सवा करोड़ नागरिक भी ‘योगमय गुजरात’ अभियान से जुड़कर इसमें सहभागी बने।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस वर्ष हम ‘मानवता के लिए योग’ की थीम पर विश्व योग दिवस मना रहे हैं। श्री नरेंद्रभाई ने सभी देशों के लोगों, धर्मों को योग का अभ्यास करने के लिए प्रोत्साहित किया है और प्रधानमंत्री ने योग-प्राणायाम के साथ स्वस्थ जीवन शैली अपनाने का भी आ’’ान किया है। आज दुनिया के अनेक लोग योग के माध्यम से एक दूसरे से जुड़ रहे हैं। श्री मोदी ने योग को दुनिया के कोने-कोने में फैलाने का बहुत अच्छा काम किया है। उन्होंने पूरी दुनिया को योग का उचित महत्व समझाया है। इस प्रकार श्री नरेंद्रभाई के ‘‘सर्वजन सुखाय’’ के प्रयास सफल रहे हैं।
श्री पटेल ने कहा कि आज विश्व के 130 से अधिक देश योग के अभ्यास से भारतीय संस्कृति की गहराई का अनुभव कर रहे हैं। योग के महत्व को समझाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जब पूरी दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही थी ऐसे समय में लोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ी और अधिक से अधिक लोगों ने स्वीकार किया कि योग-प्राणायाम के साथ की जीवन शैली कोरोना जैसी बीमारियों के खिलाफ अधिक उपयोगी है।
गुजरात राज्य योग बोर्ड की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि गुजरात राज्य योग बोर्ड की स्थापना दो वर्ष पूर्व श्री मोदी की प्रेरणा से हुई थी। इस बोर्ड द्वारा गुजरात में एक लाख से अधिक प्रशिक्षकों को प्रशिक्षित किया गया है और यह ट्रेनर लोगों को योग सिखा रहा है। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने सभी नागरिकों से योग को अपने जीवन का हिस्सा बनाने और योग को अपनाकर रोग मुक्त रहने की भी अपील की।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.