Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

झरिया:18 दिनों से बंद कोयला ट्रांसपोर्टिंग शुरू करने को लेकर हाई वोल्टेज ड्रामा।

- Sponsored -

IMG 20211205 WA0004

- Sponsored -

झरिया: बस्ताकोला न्यू आउटसोर्सिंग पेच से उत्पादित कोयले का 18 दिनों से बंद, कोयला ट्रांसपोर्टिंग शुरू करने को लेकर शनिवार को बस्ताकोला क्षेत्रीय कार्यालय में जमकर हाई वोल्टेज ड्रामा देखने को मिला।भाजपा नेत्री रागिनी सिंह अपने समर्थकों के साथ महाप्रबंधक कार्यालय पहुंच जमसं के नाम पर फर्जी यूनियन चलाने वाले को प्रश्रय देने के सवाल पर जमकर बीसीसीएल अधिकारियों की खरी खोटी सुनाई।उन्होंने बस्ताकोला न्यू आउटसोर्सिंग लोडिंग पॉइंट से बीएनआर रेलवे साइडिंग ट्रांसपोर्टिंग को तत्काल शुरू करने का मांग महाप्रबंधक से किया. गौरतलब हो कि 15 नवंबर से बस्ताकोला से बीएनआर साइडिंग कोयले की ट्रांसपोर्टिंग को रोजगार की मांग पर जमस बच्चा गुट के समर्थकों ने रोक रखा है. इस दौरान करीब 18 दिनों से बीएनआर साइडिंग जाने के लिए कोयला लदा दो हाईवा वाहन गौशाला गेट के समीप ट्रांसपोर्टिंग मार्ग के किनारे खड़ा है. उन्होंने तत्काल दोनों हाईवा वाहन को बीएनआर रेलवे साइडिंग के लिए भेजने का बात कही. इस दौरान उन्होंने प्रबंधक से सीआईएसफ जवानों को तैनात करने की बात कही।साथ ही कहा कि अगर मुख्य मार्ग पर कोई व्यक्ति ट्रांसपोर्टिंग वाहनों को बलपूर्वक रोकने की कोशिश करेगा तो उनसे मैं समझ लूंगी। र्बीसीसीएल व जिला प्रशासन के पदाधिकारियों के पहल के बाद भी ट्रांसपोर्टर तथा बच्चा गुट के समर्थकों के बीच समझौता वार्ता नियोजन के मुद्दे पर असफल हो गया था. शनिवार को रागिनी सिंह ने जनता मजदूर संघ के पैड को इस्तेमाल करने पर कई सवाल बीसीसीएल अधिकारियों से किया. उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि असंवैधानिक ढंग से अगर जनता मजदूर संघ के पैड का इस्तेमाल पर प्रबंधन दूसरे पक्ष से वार्ता करती है तो कानूनन कदम उठाए जाएंगे. बस्ताकोला महाप्रबंधक सोमेन चटर्जी ने कहा कि बीसीसीएल प्रबंधन ट्रांसपोर्टिंग रोके जाने की सूचना जिला प्रशासन को दे चुकी है. जिला प्रशासन की उपस्थिति में बंद समर्थकों ने वार्ता किया था. जो विफल रहा था. बीएनआर रेलवे साइडिंग सुचारू रूप से ट्रांसपोर्टिंग शुरू करने के लिए उन्हें वरीय पदाधिकारियों से पत्र देकर अनुमति लेनी होगी. जिससे किसी भी तरह विधि व्यवस्था की समस्या उत्पन्न नहीं हो. वही रागिनी सिंह ने कहा कि प्रबंधन लिखित रूप से सूचित करें कि ट्रांसपोर्टिंग रोके जाने के बाद से उन्होंने क्या कार्रवाई की है. तथा ट्रांसपोर्टिंग मार्ग के किनारे कोयला लदे खड़े दो हाईवा वाहन को चेक पोस्ट पार करने की अनुमति दे. जिस पर प्रबंधन ने सहमति जताते हुए 18 दिनों से खड़े कोयला लदे दो वाहन को सीआईएसफ की उपस्थिति में बीएनआर रेलवे साइडिंग के लिए भेजा. वार्ता में ट्रांसपोर्टिंग कंपनी के प्रतिनिधि के रूप में गुरु पाल सिंह उपस्थित थे।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.