Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

झरिया:भाषा विवाद को लेकर निकाला मशाल जुलूस,हजारों की संख्या में लोग हुए शामिल

- Sponsored -

IMG 20220203 WA0022

- Sponsored -

झरिया: झारखंड भाषा संघर्ष समिति की ओर से जोड़ापोखर पीला ग्राउंड में जनाक्रोश सभा का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता शक्ति महतो ने किया। ग्रामीणों को संबोधित करते हुए समिति के संचालक जय राम महतो ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन व झरिया विधायक पुर्णिमा नीरज सिंह पर जमकर बरसे। उन्होंने विधायक को ललकारते हुए कहा कि राष्ट भाषा हिंदी को पूरे भारत में लागू कराये तभी झारखंड में भोजपुरी व मगही स्वीकार है ।वही मुख्यमंत्री झारखण्डी को 1932 के खतियान के आधर पर परिभाषित करे। महतो ने कहा कि भोजपुरी की गाने अश्लीलता फैला कर झारखण्ड की संस्कृति को बर्बाद करने में तुला है ।भोजपुरी, मगही भाषा भाषी लोग यहाँ के रोजगार को छीन रहे हैं यहाँ सिर्फ रहने का अधिकार है ना की भाषा झारखंडियों पर थोपने की। अगर भोजपुरी व मगही भाष को सिलेबस से नही हटाया गया तो झारखंड की माँ बहन घर से निकलकर सड़क पर उग्र आंदोलन करेगी । जन आक्रोश सभा में झरिया विधानसभा क्षेत्र के सभी गांवों के लोग उपस्थित थे। इसके पूर्व छऊ नृत्य, झारखंड संस्कृति का स्कूली छात्रों द्वारा प्रस्तुत किया गया। सभा के बाद सेकड़ो महिला पुरुषों ने मशाल जुलूस निकालकर कर डुमरी मोर्ड, जूता गेट होते भौरा जहाजत्तण्ड बस्ती जाकर मुख्यमंत्री व विधायक के पुतला जलाया गया। जुलूस में मशाल, ढोल नगाड़ों लिए थे

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.