Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

भारतीय महिला हॉकी टीम ने शुरुआती मुकाबले में थाईलैंड को 13-0 से रौंदा

- Sponsored -

डोंगहे: ड्रैगफ्लिकर गुरजीत कौर के पांच गोलों की बदौलत भारतीय महिला हॉकी टीम ने यहां रविवार को एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी टूर्नामेंट के ओपंिनग मैच में थाईलैंड को 13-0 से रौंदा।
शीर्ष गोल स्कोरर रही गुरजीत ने मैच के दूसरे मिनट में थाईलैंड द्वारा किए गए फाउल से मिले पेनल्टी स्ट्रोक के जरिए गोल दाग कर भारत को 1-0 से शुरुआती बढ़त दिलाई, जिसने थाईलैंड को बैकफुट पर खड़ा कर दिया। विपक्षी टीम वापसी की कोशिश कर ही रही थी कि टोक्यो ओलंपिक में गोलों की हैट्रिक लगाने वाली एकमात्र भारतीय खिलाड़ी वंदना कटारिया ने सातवें मिनट में दूसरा गोल करके थाईलैंड पर दबाव बढ़ा दिया। पहला क्वार्टर खत्म होने से पहले लिलिमा ंिमज, गुरजीत और ज्योति ने तीन और गोल करते हुए बढ़त को 5-0 कर दिया। लिलिमा ने 14वें मिनट में फील्ड गोल किया, जबकि गुरजीत और ज्योति ने क्रमश: 14वें और 15वें मिनट में पेनल्टी कार्नर को गोल में बदला।
दूसरे क्वार्टर की शुरुआत भी अच्छी हुई। भारत ने थाईलैंड को गोल का कोई मौका न देते हुए ज्यादातर समय गेंद अपने कब्जे में रखी। परिणामस्वरूप थाईलैंड पर दबाव बना और दूसरे क्वार्टर के पहले यानी मैच के 16वें मिनट में युवा खिलाड़ी राजंिवदर कौर, जिन्होंने आज अंतरराष्ट्रीय हॉकी में पदार्पण किया, ने फील्ड गोल दागा। वहीं 24वें मिनट में गुरजीत ने अपना तीसरा गोल किया और लिलिमा ने भी 24वें मिनट में एक और पेनल्टी कॉर्नर को गोल में बदला। भारत यहीं नहीं रुका। इस बीच गुरजीत ने थाईलैंड के डिफेंस को भेदते हुए 25वें मिनट में टीम को एक और पेनल्टी कॉर्नर दिलाया और इसे गोल में तब्दील कर भारत को 9-0 की भारी बढ़त दिलाई। दूसरा क्वार्टर इसी स्कोर पर समाप्त हुआ।
10 मिनट के हाफ-टाइम ब्रेक के बाद भारत ने बाएं छोर से थाईलैंड के डिफेंस को भेदना जारी रखा, लेकिन थाईलैंड ने तीसरे क्वार्टर के पहले छह मिनटों में मुस्तैदी दिखाई और अच्छा बचाव किया, लेकिन ज्योति ने 36वें मिनट में डिफेंस को भेदते हुए एक और फील्ड गोल दागा और भारत की बढ़त को 10-0 कर दिया।
इसके ठीक चार मिनट बाद थाईलैंड की ओर से डिफेंस में हुई एक और चूक ने भारत को पेनल्टी कॉर्नर दिलाया, लेकिन इस बार गुरजीत के शक्तिशाली फ्लिक को विपक्षी गोलकीपर ने रोक लिया, हालांकि 43वें मिनट में सोनिका थाईलैंड के डिफेंस को भेदने और अपना पहला गोल करने में सफल रहीं।
11-0 के स्कोर के साथ शुरू हुए चौथे क्वार्टर में भी थाईलैंड ने अच्छा डिफेंस किया। मैच में वापसी की कोई उम्मीद बाकी न होने के बारे में पता होने के बावजूद विपक्षी टीम ने अंत तक पूरी जान फूंक दी। चौथे क्वार्टर की शुरुआत में नवनीत कौर ने दाएं छोर से थाईलैंड के डिफेंस में सेंध लगाने का प्रयास किया, लेकिन विपक्षी टीम के डिफेंस ने उनके इस प्रयास को असफल कर दिया। 55वें मिनट में मोनिका हालांकि दूर से मिले पास को गोल में तब्दील करने में कामयाब रहीं। इसके तीन मिनट बाद गुरजीत ने पेनल्टी कॉर्नर के जरिए मैच में अपना पांचवां गोल किया, जो भारत का मैच में 13वां और आखिरी गोल रहा।
टोक्यो ओलंपिक में ऐतिहासिक प्रदर्शन के बाद भारतीय महिला हॉकी टीम का यह पहला अंतरराष्ट्रीय मैच था। नियमित कप्तान रानी की अनुपस्थिति में अनुभवी गोलकीपर सवित ने टीम का नेतृत्व किया और उसे बड़ी जीत दिलाई। मैच में आज राजंिवदर कौर के अलावा युवा मारियाना कुजुर ने भी भारत के लिए पदार्पण किया। उल्लेखनीय है कि भारतीय महिला हॉकी टीम कोरोना महामारी संबंधित मुद्दों के कारण मलेशिया के खिलाफ सोमवार को निर्धारित मैच नहीं खेल पाएगी। एशियाई हॉकी महासंघ ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा है कि मलेशियाई टीम की खिलाड़ी नूरुल फैजा शफीकाह खालिम के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद मैच को रद्द कर दिया गया है। भारतीय टीम अब बुधवार को मेजबान दक्षिण कोरिया से भिड़ेगी।

 

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.