Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

लॉकडाउन का असर: बंद रहे बाजार, सूनी सड़कें, घर से कम निकले लोग

रांची : झारखंड में कोरोना की दूसरी लहर का असर फिलहाल कम हो गया है। लेकिन विशेषज्ञों द्वारा तीसरी लहर के आने की चेतावनी के मद्देनजर राज्य सरकार अभी भी लॉकडाउन को लेकर कुछ पाबंदियां लगाए हुए है। वीकेंड पर संपूर्ण लॉकडाउन उन्हीं पाबंदियों में से एक है। शनिवार की रात आठ बजे से सोमवार की सुबह 6 बजे तक लागू वीकेंड लॉकडाउन का झारखंड के विभिन्न जिलों में व्यापक असर रहा। रविवार को शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों तक की दुकान नहीं खुली। दुकानों के शटर पर ताले लटके रहे। सब्जी बाजार में सन्नाटा पसरा रहा। लोग भी घरों में बंद रहे। घर से बाहर वही निकले जिन्हें बहुत आवश्य कार्य से किसी दूसरे जगह जाना हो। वीकेंड लॉकडाउन के दौरान हेल्थ सर्विस, मिल्क सेंटर, पेट्रोल पंप खुले रहे। पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद रहा । सड़क पर आॅटो और बसें नहीं चलीं। हाइवे पर मालवाहक वाहनों का आवागमन जारी रहा। वहीं, प्रमुख चौक-चौराहे पर पुलिस जवानों की तैनाती की गयी थी जो सड़क पर घूम रहे लोगों से घर से बाहर आने की वजह पूछ रहे थे। कुल मिलाकर साप्ताहिक लॉकडाउन का असर झारखंड में देखने को मिला । राज्‍य के विभिन्‍न जिलों में सड़कें सुनसान रहीं। बाजार बंद हैं। रांची के कोकर, लालपुर, डंगराटोली, प्लाजा चौक, मेन रोड, डोरंडा, अशोक नगर, हरमू, हीनू, रातू रोड, मोरहाबादी, बूटी मोड़, बरियातू और कांटाटोली में सड़कें आम दिनों की अपेक्षा काफी सुनसान दिखीं। इन इलाकों में कहीं भी सब्जी मंडी या दुकान नहीं खुली थी। वहीं लोग भी सड़कों पर कम दिखे। राजधानी रांची में वैक्सीन की कमी के कारण कुछ सेंटरों पर ही टीका लगाया गया जिसके कारण कम लोग ही बाहर निकले। बंद के दौरान राज्य में खनन, निर्माण, औद्योगिक प्रतिष्ठान और कृषि कार्य से जुड़े कार्य पर कोई रोक नहीं थी । मगर इस दौरान इनसे जुड़ी दुकानें बंद रहीं।

Looks like you have blocked notifications!

Leave a Reply