Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

झारखंड के सैकड़ो युवा हुए ठगी के शिकार, सिन्हा ग्रुप पर धोखा, शोषण, ब्लैक मेलिंग और रोजगार के नाम पर ठगी का आरोप

रोजगार के नाम पर कंपनी करती है ठगी

- Sponsored -

Screenshot 20220609 214456 Gallery

राहुल कुमार
रांची: कोलकाता की एक कंपनी सिन्हा ग्रुप प्राइवेट लिमिटेड कंपनी पर गम्भीर आरोप लगया है. इस कंपनी पर पश्चिम बंगाल के कोलकाता स्थित विघुत नगर के सेक्टर 5 थाने में आवेदन दिया गया है. सभी आवेदनकर्ता झारखंड के निवासी है. आवेदनकर्ताओं ने कंपनी के साथ सिन्हा ग्रुप पर धोखा, शोषण, ब्लैक मेलिंग, रोजगार के नाम पर ठगी जैसे सगिन आरोप लगाए है. आवेदनकर्ताओं का कहना है कि सिन्हा ग्रुप के वरीय अधिकारियों पर एफआईआर दर्ज कर पुलिस पूरे मामले की जांच करे. कंपनी उड्डयन मामले में तीन तरह के काम करती है. आवेदनकर्ताओ ने बोर्ड के सदस्य और कुछ पदाधिकारियों के नाम दिए है और उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग किए है इन नामो में विप्लव कुमार सिन्हा, सुकरो ज्योति चटर्जी, सुषमा चौधरी, तृप्ति श्रीवास्तव, स्नेह शीश बिप्पव, समानता नेता गुप्ता अन्य शामिल है.

- Sponsored -

रोजगार के नाम पर कंपनी करती है ठगी
आवेदनकर्ताओ का कहना है कि कंपनी रोजगार के नाम पर झांसा देकर लोगो के साथ ठगी करने का काम करती है कंपनी दावा करती है कि वो रोजगार देगी लेकिन सिर्फ एक छोटा सा कोर्स करती है. कंपनी लोगो से रोजगार देने के नाम पर डिपॉजिट करती है और कहती है, कि जैसे ही नौकरी लगेगी पैसा वापस कर दिया जाएगा. आवेदनकर्ताओ का कहना है कि कंपनी ऑनलाइन क्लास करने के साथ स्क्रिनिग कराने का काम करती है. और आखिरी में परीक्षा लिया जाता है. इनमें से कई अभ्यर्थियों ने सभी प्रक्रिया सफलतापूर्वक पूरी कर ली है. लेकिन उन्हें नौकरी नहीं मिली इसके अलावा कई लोगो को फर्जी नौकरी के ऑफर लेटर दिए गए. उस ऑफर लेटर को लेकर जब अभ्यर्थि कंपनी पहूंचे तो उन्हें वहां पर मौजूद गार्डो ने मारपीट की और भाग दिया गया.

पूरे मामले पर कंपनी का क्या है कहना
इस पूरे घटना क्रम पर सिन्हा ग्रुप कंपनी के अधिकारी अभिषेक ने पहले तो इस तरह की शिकायत से इनकार कर दिया लेकिन बात के दरमियान उन्होंने कहा कि कंपनी सिर्फ अभ्यर्थियों को कोर्स करती है. और किसी तरह की नौकरी का वादा नहीं करती हैं.

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.