Live 7 Bharat
जनता की आवाज

ज्ञानवापी मामला : ASI आज कोर्ट में सौंप सकती है सर्वे रिपोर्ट

4 अगस्त को शुरू हुआ था ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का सर्वे

- Sponsored -

ज्ञानवापी मस्जिद परिसर की वैज्ञानिक सर्वेक्षण रिपोर्ट को आज जिला अदालत में जमा किया जा सकता है. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग ने कोर्ट के आदेश के बाद वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का सर्वे किया है. आज रिपोर्ट पेश करने का आखिरी दिन है. आज इस मामले में सुनवाई होनी है.

 

ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का वैज्ञानिक सर्वेक्षण एक महीना पहले ही पूरा हो चुका था परन्तु एएसआई ने जमा करने के लिए और समय की मांग की थी. ASI ने अदालत से कहा था कि सर्वे में इस्तेमाल किए गए उपकरणों की डीटेल के साथ रिपोर्ट अटैच करने के लिए उनको कुछ और समय की जरूरत होगी. इसके बाद कोर्ट ने समय सीमा बढ़ा दी थी.

 

- Sponsored -

सर्वे में वुजुखाने के उस हिस्से को शामिल नहीं किया गया है जिसे सुप्रीम कोर्ट के आदेश से सील कर दिया गया था.

ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का सर्वे 4 अगस्त को शुरू हुआ था

 

नंदी महाराज ज्ञानवापी

 

कोर्ट ने पांच महिलाओं की एक याचिका पर सुनवाई के बाद 21 जुलाई को ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के सर्वे का आदेश दिया था. इसके बाद भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग की एक टीम ने 4 अगस्त से सर्वे शुरू किया. याचिकाकर्ताओं ने अदालत से शृंगार गौरी सहित अन्य विग्रहों के पूजा के अधिकार की मांग की है.

 

एएसआई की सर्वे रिपोर्ट में क्या होगा

 

एएसआई की सर्वे करने वाली टीम में देश भर से विशेषज्ञों को शामिल किया गया. इसमें अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया गया जिसके लिए एक्सपर्ट्स की मदद ली गई. कोर्ट के आदेश के मुताबिक एएसआई की टीम खास बिंदुओं पर अपना सर्वे रिपोर्ट सौंपेगी.

इसमें सर्वे के आधार पर बताया जाएगा कि क्या मस्जिद को पहले से मौजूद मंदिर के उपरी हिस्से को तोड़कर बनाया गया. इसके अलावा रिपोर्ट में संरचना की उम्र, उसके निर्माण की जानकारी और दीवारों पर मौजूद कलाकृतियों की उम्र और प्रकृति के बारे में भी जानकारी होगी. सर्वे रिपोर्ट में तहखानों के बारे में जानकारी दी जाएगी. इसके अलावा भी कई और बिंदुओं पर सर्वे टीम अदालत को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी.

 

मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाए जाने का हिंदू पक्ष का दावा

 

हिंदू पक्ष का दावा है कि जिस जगह पर ज्ञानवापी मस्जिद स्थित है वहां पहले एक मंदिर था. 17वीं शताब्दी में मुगल बादशाह औरंगजेब ने इसे तुड़वाकर मस्जिद बना दिया. हिंदू पक्ष का कहना है कि मूल संरचना मंदिर का ही है और परिसर में जगह-जगह इसके साक्ष्य मौजूद हैं. ज्ञानवापी मस्जिद काशी विश्वनाथ मंदिर के बगल में स्थित है.

 

 

 

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: