Live 7 Bharat
जनता की आवाज

चुनाव परिणाम से पहले तेलंगाना में खेल शुरू ,कांग्रेस नेताओं पर डाले जा रहे डोरे 

क्या तेलंगाना में कांग्रेस उम्मीदवारों पर डोरे डाले जा रहे हैं ?

- Sponsored -

अखिलेश अखिल

क्या तेलंगाना में कांग्रेस उम्मीदवारों पर डोरे डाले जा रहे हैं ?इस तरह की खबर से कांग्रेस अलर्ट हो गई है। कांग्रेस ने इस खबर को जानते ही अपने नेता शिवकुमार को कर्नाटक के लिए रवाना कर दिया है। अब शिवकुमार तेलंगाना में क्या कुछ करते हैं यह देखने की बात है। एग्जिट पोल में कांग्रेस की बढ़त दिखाने के बाद तेलंगना की राजनीति गर्म हो गई है और बीजेपी के साथ ही केसीआर भी काफी परेशान हो गए हैं।

भय तो सबको है। लेकिन सबसे ज्यादा भय बीजेपी को है। बीजेपी को लग रहा है कि तेलंगाना में अगर उसकी सरकार नहीं बनी और केसीआर की जगह कांग्रेस की सरकार बन गई तो आगे का खेल और भी ख़राब होगा। तेलंगाना से बीजेपी को काफी उम्मीद लगी हुई है। वह चाहती है कि यह तो उसकी सरकार बने या फिर वह मुख्य विपक्षी पार्टी बनकर उभरे ताकि तेलंगाना के साथ ही दक्षिण की राजनीति को साध सके। बीजेपी के लिए दक्षिण की राजनीति काफी  अहम है लेकिन कर्नाटक चुनाव के बाद बीजेपी दक्षिण की राजनीतिक विस्तार की सम्भावना से कटती जा रही है। अभी उसकी आस तेलंगाना से जुड़ी है। बीजेपी को लग रहा है कि तेलंगाना में उसकी स्थिति मजबूत हो जाए तो दक्षिण को अगले लोकसभा के लिए साधा जा सकता है।

- Sponsored -

- Sponsored -

लेकिन यह सब बीजेपी की सोंच और समझ की बात है। इधर बड़ी खबर ये आ रही है कि कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री डीके शिवकुमार तेलंगाना के लिए चल दिए हैं। पार्टी की तरफ से अधिकृत किये गए शिवकुमार को इस बात की आशंका लग रही है कि एग्जिट पोल में जिस तरह से कांग्रेस की सरकार बनती दिख रही है उसके बाद बीजेपी और केसीआर ने पार्टी के भीतर सेंध लगाने की तैयारी कर दी है।

शिवकुमार ने शनिवार को कहा कि वह चुनाव परिणामों की पृष्ठभूमि में तेलंगाना जा रहे हैं। मैं पार्टी द्वारा सौंपे गए कार्य को पूरा करूंगा।शिवकुमार ने बेंगलुरु में अपने आवास पर पत्रकारों से बातचीत की। शिवकुमार ने यह बयान तब दिया जब उनसे पूछा गया कि क्या वह खंडित फैसले की स्थिति को संभालने के लिए परिणामों की घोषणा की पृष्ठभूमि में तेलंगाना जा रहे हैं।

जब शिवकुमार से पूछा गया कि कांग्रेस विधायकों से अन्य दलों द्वारा संपर्क किया जा रहा है और क्या पार्टी को इस घटनाक्रम का डर है, तो उन्होंने कहा कि पार्टी का कोई भी विधायक अन्य राजनीतिक दलों में शामिल नहीं होगा।
उन्होंने आगे कहा, ”हमें इसकी कोई चिंता नहीं है। हमारे उम्मीदवारों से अन्य राजनीतिक दलों द्वारा संपर्क किया जा रहा है। हमारे सभी उम्मीदवार, जिनसे भी उन्होंने संपर्क किया है उन्होंने यह जानकारी दे दी है कि किसने उनसे संपर्क किया था। हम भी बहुत सतर्क हैं।”

 

उन्होंने कहा कि आज मेरी अपने निर्वाचन क्षेत्र में जनता के साथ बैठक है। मैं उनकी शिकायतें दूर करने के लिए वहां जा रहा हूं। मुझे उत्तरी कर्नाटक के बेलगावी में शीतकालीन सत्र में भाग लेने के लिए 10 दिनों के लिए दूर रहना होगा। इस बीच मैं तेलंगाना जा रहा हूं।पड़ोसी राज्यों के नेताओं ने हमारे राज्य चुनाव में काम किया था। हमारे नेताओं ने वहां चुनाव में भी काम किया है। इसलिए, पड़ोसी राज्य के चुनावों के दौरान हमारी जिम्मेदारियां होंगी।

 

तेलंगाना राज्य के विधानसभा चुनाव के नतीजे 3 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे। चुनाव 30 नवंबर को हुआ थे। एग्जिट पोल में कांग्रेस पार्टी को बढ़त दी गई है और खंडित जनादेश की भी भविष्यवाणी की गई है। बता दें कि शिवकुमार ने कहा था कि राज्य विधानसभा चुनावों में खंडित जनादेश की भविष्यवाणी करने वाले एग्जिट पोल की घोषणा के बाद पार्टी उन्हें जो जिम्मेदारी देगी वह निभाने के लिए तैयार हैं।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: