Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

नेपाल से आये हाथियों का टाइगर रिजर्व में खौफ

- Sponsored -

बरेली : पड़ोसी देश नेपाल की शुक्ला फांटा सेंचुरी से निकल कर पीलीभीत टाइगर रिजर्व पहुंचे हाथियों को तराई का जंगल रास आ गया है।
टाइगर रिजर्व स्टाफ और क्षेत्रीय किसान हाथियों के झुण्ड को नेपाल की शुक्ला फांटा सेंचुरी की तरफ भगाने का भरसक प्रयास कर रहे है लेकिन यह झुण्ड घूम फिर कर टाइगर रिजर्व की तराई के जंगल आ जाता है। इन हाथियों ने पूरे इलाके में धमाल मचा रखा है।
बरेली के मुख्य वन संरक्षक ललित वर्मा ने रविवार को बताया कि नेपाल की शुक्ला फांटा सेंचुरी से लगभग 25 हाथियों का झुण्ड , जिसमे बच्चे भी शामिल हैं, पीलीभीत के टाइगर रिजर्व क्षेत्र में एक महीना पहले आया था। वह यहाँ फसलों को नुकसान पहुंचा रहे है। हाथियों के झुण्ड में रहने के कारण ग्रामीण बहुत भयभीत है। टाइगर रिजर्व स्टाफ और वन विभाग की टीम हाथियों के झुण्ड को भागने हर सम्भव प्रयास कर रहा है लेकिन वह नेपाल की तरफ जाते तो है ,लेकिन रात होते होते वापस तराई में आ जाते है।
उन्होंने बताया कि जिन किसानों की फसल का हाथी नुकसान करेंगे , उनकों मुआवजा दिया जायेगा। हाथियों की बड़ी संख्या होने के कारण उन्हें भगाने में दिक्कत आ रही है। बीती रात इन हाथियों के दो गुट बन गए एक ने पिपरिया संतोष के निकट जमकर धमाल मचाया यहां वन विभाग के वाच टावर को भी तोड़ कर तहस नहस कर दिया जबकि दूसरे गुट ने वाइफकेशन की ओर रुख किया। दूसरा गुट बीती रात हल्दीडेंगा के समीप हरदोई नहर किनारे तक पहुंच गया। बराही रेंज के वन क्षेत्राधिकारी समेत पूरा स्टाफ रात भर निगरानी में जुटा रहा। दो दिन पूर्व सभी माला रेंज से निकलकर मुस्तफाबाद की ओर जाने लगे थे तब वन विभाग व ग्रामीणों ने राहत की सांस ली थी लेकिन बीती रात हाथियों का एक झुंड पुन: बराहो रेंज में आ गया।
टाइगर रिजर्व के उप निदेशक नवीन खंडेलवाल ने बताया कि टाइगर रिजर्व के जंगल में हाथियों को आए हुए एक माह बीत चुका है इस हाथियों की संख्या 24/25 है। एक महीने से स्टाफ 24 घंटे निगरानी कर रहा है। वन विभाग के भरोसेमंद सूत्रों के अनुसार पग मार्ग के आधार पर एक बेबी हाथी भी है जिसके पग मार्क 5-6 दिन के ही प्रतीत हो रहे हैं ऐसा लगता है कि टाइगर रिजर्व में ही मादा हाथी ने एक बेबी को जन्म दिया है इस तरह हाथियों का कुनबा बढ़ता हुआ भी नजर आ रहा है।
बराही रेंज पीलीभीत के वन क्षेत्राधिकारी वजीर हसन ने जानकारी दी कि हरदोई ब्रांच नहर के किनारे हाथियों की मौजूदगी है। वन विभाग की चार टीमें हाथियों की निगरानी कर रही है उन्हें वापस नेपाल की ओर खदेड़ ने का प्रयास किया जा रहा है। Ÿिफलहाल प्रयास कामयाब नहीं हो रहा है।
कभी कभी ये हाथी दो झुंडों में बाँट जाते हैं , एक झुण्ड ने पिपरिया संतोष के समीप ही वन विभाग के वाच टावर को तोड़ा और वह वहीं डेरा जमाए है जबकि दूसरे गुट की खटीमा रोड पार कर बराही रेंज में पहुँच गया। बीती रात हल्दीडंगा में हरदोई नहर किनारे जंगल में पुराने ईंट भटटे के पास हाथियों की मौजूदगी थी। रात भर वन विभाग की टीमें निगरानी करती रही हाथियों को पीपे बजाकर खदेड़ने का प्रयास भी किया गया। उसका नतीजा यह निकला कि दोनों गट फिर एक जगह आ गए।
माधोटांडा रोड पर स्थित पिपरिया संतोष गांव में पहुंचकर ग्रामीणों की धान व गन्ने की फसलों को बुरी तरह रौंदा, ग्रामीणों ने पूरी रात पीपे व ढोल बजाकर हाथियों को खदेड़ने का प्रयास किया ।

 

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

Leave a Reply