Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

फर्जी था बाटला हाउस एनकाउंटर , हमारे बच्चे मारे, मिलना चाहिए शहीद का दर्जा: तौकीर रजा

- Sponsored -

लखनऊ: आला हजरत बरेली शरीफ के मौलाना तौकीर रजा खां ने बाटला हाउस एनकाउंटर को लेकर विवादित बयान दिया है। तौकीर रजा ने बाटला हाउस एनकाउंटर को फर्जी बताते हुए कहा है कि मुठभेड़ में आतंकवादी नहीं मारे गए थे और इंस्पेक्टर महेश चंद्र शर्मा की हत्या पुलिसवालों ने ही की थी। तौकरी ने यह भी खुलासा किया कि कांग्रेस पार्टी ने उनसे वादा किया था कि 2009 में सरकार बनते ही सबसे पहले इस मुठभेड़ की जांच कराई जाएगी, लेकिन पार्टी ने ऐसा नहीं किया। उन्होंने मुठभेड़ में मारे गए युवकों को शहीद का दर्जा देने की मांग करते हुए कहा कि कांग्रेस को पुलिस के मनोबल की फिक्र थी, मुसलमानों के मनोबल की नहीं।

- Sponsored -

एक न्यूज एजेंसी की ओर से जारी वीडियो में तौकीर रजा कहते हैं, ”यह बात सही है कि हम हमेशा कांग्रेस के खिलाफ रहे। हमसे एक गलती यह हुई की कांग्रेस की गलतियों की नीतियों की वजह से, हमने कांग्रेस को भी बहुत करीब से देखा। 2009 में जब मैं कांग्रेस के साथ था और उसे जितवाया था, तो मैंने मंच से कहा था कि कांग्रेस यह ना सोचे कि उनको माफ कर दिया है। कांग्रेस ने आपको अभी पैरोल पर छोड़ा है, अगर आपका काम आगे ठीक रहेगा तो आगे आपके बारे में सोचा जाएगा।”

तौकीर ने आगे कहा, ”लेकिन उन्होंने सोचा कि मेरी सरकार बन गई। उन्होंने मुझसे कहा था कि सरकार बनने के बाद हमारा पहला काम होगा कि हम बाटला हाउस एनकाउंटर की जांच कराएंगे। अगर एनकाउंटर की जांच हो गई होती तो दुनिया को पता चल जाता कि जो मारे गए वे आतंकवादी नहीं थे, उन्हें शहीद का दर्जा मिलना चाहिए। जो इंस्पेक्टर शर्मा मारे गए, उनका कत्ल हुआ, उन्हें उनकी पुलिस ने मारा था। उन्होंने कहा कि इसकी जांच नहीं करवाएंगे पुलिसवालों का मनोबल कमजोर होगा। उन्हें पुलिस के मनोबल की ज्यादा परवाह होगी। 20 करोड़ मुसलमानों के मनोबल की परवाह नहीं थी। हमारे बच्चों को आतंकवादी कहकर मार डाला गया। मेरी शिकायतें कांग्रेस से हमेशा रही।”

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.