Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

महामारी के दौर में भी बीसीसीएल आक्सीजन देने वाले पेड़ व जंगलों को कर रही नष्ट

मामला सिजुआ क्षेत्र के बासदेवपुर कोलियरी का
रत्नेश पांडेय
लोयाबाद: वैश्विक महामारी के दौरान आॅक्सीजन की महत्ता से लोग रूबरू हुए। शायद लोगों को अब समझ में आया की आसानी से प्राप्त होने वाले जीवन दायिनी आॅक्सीजन हरे भरे पर्यावरण की ही देन है। इसलिए अब हमसभी को जागरूक होकर पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कदम बढ़ाने चाहिए, वही दूसरी ओर कोयला खनन क्षेत्र में अग्रणी कंपनी बीसीसीएल शायद इसको गंभीरता से नहीं ले रहा है। बीसीसीएल सिजुआ क्षेत्र के बासदेवपुर कोलियरी प्रबंधन द्वारा हरियाली नष्ट की जा रही है। यहां ओबीआर डालकर पर्यावरण को नष्ट करने में कोलियरी प्रबंधन सिद्दत्त से जुटा है। हजारों पेड़ और जंगल अब तक ओबी मिट्टी के ढेर में दब कर अपना अस्तित्व खो चुके है। प्रबंधन सवालों के जवाब में टालमटोल और इंकार शब्द का इस्तेमाल करते हैं लेकिन वास्तुस्तिथि कुछ और ही बयां करती है। ज्ञात हो कि बासदेवपुर में आउटसोर्सिंग कम्पनी के द्वारा कोयले का उत्खनन कार्य चल रहा है। उत्खनन के दौरान ओबी मिट्टी हटाकर बासदेवपुर कोलियरी के उत्तरी छोर में डाला जा रहा है।जिससे यहां के हरे भरे सैकड़ों हजारों पेड़ और जंगल नष्ट हो रहे है। मामले की सूचना पाकर वन विभाग मामले की जांच में जुट गई है।
पर्यावरण संतुलन को लेकर वर्षो पूर्व लगाया गया था पौधा
बताया जाता है की करीब 40 वर्ष पूर्व वन विभाग द्वारा अग्नि प्रभावित क्षेत्र मे पर्यावरण संतुलन बनाए रखने के लिए बंजर जमीन पर मिट्टी भराई कर करीब 50 एकड़ जमीन पर 40 हजार पौधे लगाए गए थे। इतने सालों में यह पौधा बड़ी दरख्तों और जंगल के रुप में फैल गया, बीच में असमाजिक तत्व बहुत्तो पेड़ काट कर ले गए। इससे पूर्व बांसजोड़ा से भी उत्खनन का ओबी यहां डाला गया। इससे भी उस समय हरियाली नष्ट हुई।अब बासदेवपुर कोलियरी प्रबंधन द्वारा बाकी बचे पेड़ व जंगल को बर्बाद किया जा रहा है और अब इसे देखने वाला कोई नही है।
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में करेंगे शिकायत: इम्तियाज अहमद
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता इम्तियाज अहमद ने कहा कि पुरा विश्व ग्लोबल वार्मिंग की चपेट में है। हर तरफ पेड़ व जंगल बचाने की कोशिशे हो रही है वहीं बासदेवपुर में हरे भरे पेड़ को नष्ट कर जंगल को बर्बाद किया जा रहा है। इसमें दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए। इम्तियाज ने कहा कि इस सम्बंध में मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल को पत्र लिखकर शिकायत की जाएगी।
जीएम को नहीं है जानकारी, तो पीओ ने कहा आइए कार्यालय में बात करते हैं:
इस बाबत नव पदस्थापित सिजुआ महाप्रबंधक पीके दुबे ने कहा मुझे कुछ जानकारी नही है,जानकारी लेने के बाद ही कुछ कह पाएंगे, वही परियोजना पदाधिकारी सतेंन्द्र सिंह ने कहा कि अभी मीटिंग में व्यस्त है। आइये न कार्यालय में बात करते हैं। और फोन काट दी।
दोषियों पर होगी कार्रवाई: डीएफओ
इस संबंध ने जिला वन अधिकारी विमल लकड़ा ने कहा की मामले को लेकर सूचना मिली है, विभाग के द्वारा जांच किया जा रहा है। दोषियों पर कार्रवाई होगी।

Looks like you have blocked notifications!

Leave a Reply