Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

ग्रेटर नोएडा में बिजली संकट का इफेक्ट: सोसाइटी छोड़ रिश्तेदारों के घर गए 800 परिवार

- Sponsored -

ग्रेटर नोएडा : ग्रेटर नोएडा वेस्ट स्थित पंचशील ग्रीन-2 सोसाइटी में रविवार को दूसरे दिन भी आठ टावर में बिजली और पानी की आपूर्ति शुरू न होने से निवासी परेशान रहे। गुस्साए लोगों ने रविवार को विरोध प्रदर्शन किया। बिजली नहीं होने से 800 परिवार सोसाइटी छोड़कर रिश्तेदारों के घर चले गए हैं।
सोसाइटी के इलेक्ट्रिक पैनल में आग लगने से कई टावर की बिजली आपूर्ति बाधित है। सोसाइटी के निवासियों ने बताया कि सोसाइटी में 13 टावर हैं, जिनमें 1800 परिवार रह रहे हैं। सोसाइटी में शुक्रवार देर रात इलेक्ट्रिक पैनल में आग लगाने से बिजली और पानी की आपूर्ति बाधित है।
सोसाइटी के पांच टावर में डीजी सेट से बिजली दी जा रही है, बाकि आठ टावर में दो दिन से बिजली गुल है। गर्मी में बिजली और पानी न होने से लोग परेशान हैं। लोगों की समस्या को देखते हुए दादरी विधायक तेजपाल नागर ने रविवार को बिल्डर प्रबंधन और निवासियों से मुलाकात की। उन्होंने बिल्डर प्रबंधन, एनपीसीएल और प्राधिकरण को जल्द से जल्द सोसाइटी के लोगों की समस्या हल करने को कहा है।
वहीं, भीषण गर्मी में लोगों को बिजली कटौती से राहत नहीं मिल रही है। शहरी क्षेत्रों के मुकाबले ग्रामीण इलाकों में अधिक कटौती हो रही है। देहात क्षेत्र के दादरी, दनकौर, जेवर व रबूपुरा क्षेत्र में उपभोक्ताओं को आठ से दस घंटे तक कटौती झेलनी पड़ रही है।
नोएडा शहर में 170 से अधिक आवासीय, संस्थागत, इंडस्ट्रियल और आईटी सेक्टर हैं। साथ ही 64 से अधिक गांव भी हैं। प्रदेश में छाए बिजली संकट का असर जिले में भी दिखाई देने लगा है। नो-पावर कट जोन होने के बावजूद शहर के विभिन्न सेक्टर में दो से तीन घंटे तक लोगों को अघोषित बिजली कटौती झेलनी पड़ रही है। वहीं, शहरों से जुड़े ग्रामीण क्षेत्रों में उपभोक्ताओं को रोज चार से पांच घंटे तक कटौती झेलनी पड़ रही है। इससे भी बुरा हाल जिले के देहात क्षेत्रों का है। देहात क्षेत्रों में दादरी, दनकौर, जेवर व रबूपुरा में आठ से दस घंटे तक कटौती हो रही है।विद्युत निगम के मुख्य अभियंता वीएन सिंह ने कहा कि बिजली उपभोक्ताओं को बेहतर आपूर्ति देने का प्रयास किया जा रहा है। साथ ही मरम्मत कार्य भी किए जा रहे हैं, ताकि उपभोक्ताओं को निर्बाध बिजली आपूर्ति मिले।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.