Live 7 Bharat
जनता की आवाज

गलत सलाहकारों के कारण ही हेमंत सोरेन की यह दुर्गति हो रही है :डा निशिकांत

- Sponsored -

रांची: भारतीय जनता पार्टी के सांसद डा निशिकांत दुबे ने कहा है कि झारखंड में मध्यावधि चुनाव होना चाहिए। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के खिलाफ यह कार्रवाई हुई है। गंभीर मामला है। यह भ्रष्टाचार का मामला बनता है। अगर एक सामान्य विधायक की विधानसभा सदस्यता गई होती तो बात समझ में आती है। लेकिन यह मामला मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से संबंधित है। वह केवल एक विधायक नहीं, झारखंड सरकार के मुखिया भी हैं। इसलिए न सिर्फ उन्हें, बल्कि उनकी पूरी पार्टी को पुन: चुनाव के जरिए जनादेश मांगना चाहिए। भाजपा इस मांग पर कायम है कि झारखंड में मध्यावधि चुनाव होना चाहिए। भाजपा के कार्यकर्ता चुनाव की तैयारी में जुट गए हैं।झारखंड में हेमंत सोरेन विधायकी समाप्त होने के बाद किसको सीएम बना सकते हैं? इस सवाल के जवाब में भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने कहा कि हेमंत सोरेन चाहें तो दाउद इब्राहिम या एके47 वाले प्रेम प्रकाश को भी मुख्यमंत्री बना सकते हैं। उनकी अपनी मर्जी है। जिसको चाहते हैं सीएम बना दें। यह राज्यपाल और उनके बीच का मामला है। मेरा मानना है कि उन्हें हर हाल में मध्यावधि चुनाव में जाना चाहिए। यह बात उन्होंने एक मीडिया को इंटरव्यू में कही है। इसका वीडियो उन्होंने खुद अपने टविटर पर साझा भी किया है।भाजपा सांसद से जब पूछा गया कि चुनाव आयोग के पत्र के बारे में उन्होंने टवीट कर जानकारी दी, आपको कैसे पता चला? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि पत्र में क्या लिखा है यह बात मैंने नहीं बताई है। सिर्फ यही कहा है कि चुनाव आयोग ने राज्यपाल को पत्र भेज दिया है। अब हेमंत सोरेन इसका बाल का खाल निकाल रहे हैं। यह उनके सलाहकारों का दोष है। गलत सलाहकारों के कारण ही हेमंत सोरेन की यह दुर्गति हो रही है। हेमंत सोरेन का अपने भीतर झांक कर देखना चाहिए। हेमंत सोरेन भ्रष्टाचार कर रहे हैं और भ्रष्टाचारियों से घिरे हुए हैं।भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने कहा कि उनके ऊपर हेमंत सोरेन ने 36 तरह के केस दर्ज करवाया और आज खुद मुख्यमंत्री की कुर्सी और हेमंत सोरेन में 36 का आंकड़ा होता नजर आ रहा है। राज्य में लोकतंत्र की लड़ाई लड़कर हमने जीत की तरफ कदम रखा है। झारखंड में इतिहास दोहरा गया मधु कोडा भाग दो।
भाजपा सांसद ने टवीट कर कहा है कि झारखंड मुक्ति मोर्चा के सूत्रों के अनुसार, तीन बसों से झामुमो विधायकों को छत्तीसगढ़ के बारामुदा ले जाया जा रहा है। मैं भाजपा, एजेंसी के साथ साथ अब झामुमो की सूचना भी लगातार देता रहूंगा। हालांकि सांसद ने यह नहीं बताया है कि इन विधायकों में कांग्रेस के विधायक शामिल हैं या नहीं। लेकिन माना जा रहा कि इसमें दोनों दलों के विधायक शामिल होंगे। अब सबकी नजर इस बात पर है कि आखिर विधायकों को बाहर ले जाने की नौबत क्यों आन पड़ी? क्या झारखंड में विधायकों की खरीद-बिक्री की आशंका बनी हुई है।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: