Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

पौधरोपण कर मनायी गयी डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जयंती

- Sponsored -

डॉ. मुखर्जी जी ने राष्ट्रविरोधी और विघटनकारी ताकतों के खिलाफ संघर्ष करते दी प्राणों की आहुति

कयूम खान
लोहरदगा: भारतीय जनता पार्टी लोहरदगा जिला समिति के तत्वावधान में मंगलवार को बक्शीडीपा स्थित कार्यालय में मनीर उरांव की अध्यक्षता में भारत की एकता एवं अखंडता के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले, प्रखर राष्ट्रवादी विचारक, महान शिक्षाविद, जनसंघ के संस्थापक एवं पथ प्रदर्शक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जयंती पौधरोपण कर मनायी गयी। इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से क्षेत्र के सांसद सुदर्शन भगत एवं प्रदेश कार्यसमिति सदस्य ओम प्रकाश सिंह, संयोजक सूरजमल साहू मौजूद थे। कार्यक्रम की शुरूआत डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के चित्र पर माल्यार्पण, पुष्प अर्पण कर वंदे मातरम के सामूहिक गीत के साथ की गई। मौके पर सांसद श्री भगत ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि अंग्रेजों के दमन, भारतीय संस्कृति और उसके अंतर्निहित मूल्यों पर हम लोग के सामाजिक और आर्थिक दुष्परिणामों को देखा था, उन्हीं परिस्थितियों पर राष्ट्रीय चेतना को जागृत करने के लिए दृढ़ संकल्पित होकर राष्ट्रवादी मूल्यों को प्रबल किया। इसलिए हमें उनकी विचारों का प्रसार आगामी पीढ़ी के लिए उनके विचारों को प्रोग्राम करना बहुत जरूरी है। डॉक्टर मुखर्जी हमेशा से एकत्रित भारत के लिए राष्ट्रवाद की बुलंद आवाज के रूप में जाने जाते रहे। साथ ही अंग्रेजो के द्वारा सांप्रदायिक विभाजन को समाप्त करने के लिए प्रबल समर्थक रहे। मुस्लिम लीग और अन्य राष्ट्रविरोधी और विघटनकारी ताकतों की सांप्रदायिक राजनीति पर उनके कड़ी प्रतिक्रिया के परिणाम स्वरुप ही उन्हें अखिल भारतीय हिंदू महासभा से सक्रिय होकर जुड़ने का अवसर मिला था। 1940 में हिंदू महासभा बंगाल इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष होने के नाते 1944 में राष्ट्रीय अध्यक्ष भी बने और बाद में उन्होंने 1951 में भारतीय जनसंख्या स्थापना की आज दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी भारतीय जनता पार्टी उसी से निकली है। और पूरा देश भरपूर समर्थन दे रहा जिससे भारत के धार्मिक और सांस्कृतिक संबंधों में मजबूती मिली है। वियतनाम, श्रीलंका तथा कंबोडिया आदि देश स्वंय अनुरोध कर अपने देश ले गए और वहां के लोग डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी को एक संत के रूप में आज भी दर्शन करते हैं। डॉ मुखर्जी ने जो मार्ग प्रशस्त किया था, आज मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र में भाजपा की सरकार उस पथ पर निरंतर आगे बढ़ रही है। उनके आदर्शों मूल्य एवं लक्ष्यों को पूरा करने का कार्य कर रही है।

कार्यक्रम के पश्चात सांसद के द्वारा कार्यालय परिसर में पौधरोपण का भी कार्य किया गया। जिसके दौरान उन्होंने कहा कि पौधरोपण आज पूरे विश्व की मांग है। पर्यावरण सुरक्षा हमारी नैतिक जिम्मेवारी है, जिसे हमें नहीं छोड़नी चाहिए। स्वयं इसके प्रति सजग होकर समाज को जागरूक करते हुए बृहद रूप में हर वर्ष पौधरोपण करना चाहिए। जो कि हमारे भारतीय जनता पार्टी के द्वारा हर वर्ष अंतराल के साथ में कार्यक्रमों को निर्धारित करती है, जिसमें पूरे भारत में पार्टी के कार्यकर्ता पौधरोपण का कार्य लगन के साथ करते हैं।

जिला अध्यक्ष मनीर उराँव ने कहा कि डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी हमेशा से राष्ट्र विरोधी नीतियों का प्रखर विरोधी रहे। वे सदन में भी गलत नीतियों विरोध किया, जिसके परिणाम है कि आज विचारों के बल पर तीन से 303 सीटों तक लोकसभा में पहुंच गए।

ओमप्रकाश सिंह ने कहा कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी के विचारों के बल पर ही आज बंगाल हमारे अखंड भारत का हिस्सा है। कार्यक्रम का मंच संचालन महामंत्री राजकुमार वर्मा एवं धन्यवाद ज्ञापन उपाध्यक्ष नीरज नलीन जी के द्वारा कविताओं के साथ की गई। मौके पर सांसद प्रतिनिधि चंद्रशेखर प्रसाद अग्रवाल, राजकिशोर महतो, हर्षनाथ महतो, बालकृष्णा सिंह, सुश्री रेणु तिरकी, अनिल उरांव, भारती सिन्हा, कलावती देवी, पशुपतिनाथ पारस, सजल कुमार मनीष शिखर, बाल्मीकि कुमार यदुनंदन तिवारी मिथुन तमेड़ा, तुलसी उराँव महादेव उरांव, फारूख कैशर, पप्पू कुमार प्रदीप कुमार सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

Leave a Reply