Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

दो दिवसीय कुड़मी समाज के अधिवेशन में समाजहित पर चर्चा

- Sponsored -

पद्मश्री छुटनी महतो को मिली केन्द्रीय सचिव की जिम्मेवारी
जमशेदपुर। आदिबासी कुड़मी समाज का ह्यदो दिवसीय डेलिगेट केन्द्रीय अधिवेशनह्ण सोनारी निर्मल महतो भवन में संपन्न हुआ, जिसमें समाजहित में कई विषयों पर चर्चा हुई। इसमें झारखंड सहित अन्य राज्यों के सभी कई प्रतिनिधि शामिल हुए तथा अपनी बातें रखी। अधिवेशन के द्वितीय दिन बतौर मुख्य अतिथि पूर्व केंद्रीय अध्यक्ष डॉ. विद्याभूषण महतो, विशिष्ट अतिथि कोल्हान यूनिवर्सिटी के कुड़माली प्रोफेसर सुभाष चन्द्र महतो, कुड़माली शिक्षिका संगीता महतो व सविता महतो ने संबोधित किया। इसके पूर्व प्रथम दिन पद्मश्री महतो, डा. सुधांशु शेखर महतो, कोषाध्यक्ष गणेश्वर महतो व चंद्रनाथ पटेल ने भी अपने विचार रखे। अधिवेशन में केंद्रीय सचिव बैजनाथ महतो ने सांगठनिक जानकारी देते हुए बताया कि गत 22 जून 2021 को झारखंड सरकार द्वारा संस्था अधिनियम 21, 1860 के तहत ह्यआदिबासी कुड़मी समाजह्ण को निबंधित किया गया। इसका जिसका निबंधन संख्या 66/2021-2022 एवं कार्यक्षेत्र सम्पूर्ण भारत है। उन्होंने संस्था के उद्देश्य, नियमावली और कार्यप्रणाली पर प्रकाश डाला। केंद्रीय अध्यक्ष प्रसेनजीत महतो ने मूल कांसेप्ट जनजाति कुड़मी, मातृभाषा कुड़माली और प्रकृति धर्म सारना का तथ्यात्मक विश्लेषण किया. साथ ही बिना सदस्यता ग्रहण किये एवं बिना अनुमति के संस्था के नाम का किसी के द्वारा भी किसी भी तरीके से इस्तेमाल न करने का आग्रह किया. सभा में शिल्पी विकास महतो, उजाला महतो, बिनोद महतो, मनगोविंद महतो, राजकुमार महतो ने एक से बढकर एक कुड़माली झुमर गीत गाकर समां बांध दिया. सभा में विभिन्न राज्यों के काफी संख्या में सदस्य शामिल हुए। अधिवेशन में केंद्रीय समिति का विस्तारीकरण किया गया, जिसमें चन्द्रमोहन महतो, निरंजन महतो, तपन महतो (सभी झारखंड) एवं नंद महतो (असम) को केंद्रीय उपाध्यक्ष बनाया गयां साथ ही रुपलाल महतो, रामविलास महतो, उमेश महतो (सभी झारखंड) एवं महादेव महतो (असम) को संयुक्त सचिव, चन्द्रनाथ भाई पटेल को केंद्रीय प्रवक्ता सह कानूनी सलाहकार, डॉ. विद्याभूषण महतो को केंद्रीय मुख्य सलाहकार, डा. सुधांशु शेखर महतो एवं पन्नालाल महतो को केंद्रीय सलाहकार मनोनीत किया गया. इसके अलावा महिला मंच में सोनी देवी को केंद्रीय अध्यक्ष एवं पद्मश्री छुटनी महतो को केंद्रीय सचिव, दुलारी देवी को रामगढ़ जिलाध्यक्ष, संगीता महतो को जिलाध्यक्ष व सविता महतो को सचिव नियुक्त किया गया. जिलाध्यक्ष के रूप में सुधांशु महतो को पूर्वी सिंहभूम, मनोज महतो को सरायकेला-खरसावां, शंकरलाल महतो को रामगढ़, जयप्रकाश पटेल को हजारीबाग, आनंद सागर को बोकारो, चैधरी चरण महतो को धनबाद, बिनोद बंसरिआर को गोड्डा से नियुक्त किया गया. रांची, चतरा, गिरीडीह, पश्चिम सिंहभूम सहित अन्य राज्यों और जिलों में तीन महीने के भीतर कमिटी गठन का निर्णय लिया गया।

 

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

Leave a Reply