Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

क्रिकेट आईपीएल नीलामी : विकेटकीपरों में ईशान किशन पर रहेंगी निगाहें

- Sponsored -

मुंबई: टी20 क्रिकेट में विकेटकीपरों को उनकी कीपिंग की बजाय बल्लेबाजी पर आंका जाता है। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में शीर्ष क्रम में बल्लेबाजी करने वाले विकेटकीपर को तो बेशकÞीमती हीरा माना जाता है। और अगर वह भारतीय हो, तो उसका मोल और भी बढ़ जाता है। टीमों को हमेशा इन मापदंड़ों पर खरे उतरने वाले खिलाड़ियों की तलाश रहती है। यही कारण है कि टीमों ने लोकेश राहुल, महेंद्र ंिसह धोनी, ऋ षभ पंत, संजू सैमसन और जॉस बटलर जैसे विकेटकीपरों को रिटेन किया है, और ये छह खिलाड़ी बड़ी नीलामी में बड़ी रकम के लिए जा सकते हैं।
इशान किशन: ताबड़तोड़ बल्लेबाज, जो स्पिन के खिलाफ बड़े शॉट लगाता हो और किसी भी स्थान पर बल्लेबाजी कर सके। अगर 23 वर्षीय किशन इस बड़ी नीलामी में सबसे महंगे खिलाड़ियों में से एक बनते हैं, तो इसमें आश्चर्य की कोई बात नहीं होगी। आईपीएल 2020 में किशन ने सर्वाधिक 30 छक्के लगाए थे। 2018 में 6 करोड़ 40 लाख रुपयों में मुंबई इंडियंस द्वारा खरीदे जाने के बाद से किशन ने उन्हें शीर्ष क्रम में एक बाएं हाथ के बल्लेबाज का विकल्प दिया है। पिछले साल उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया। भले ही मुंबई ने उन्हें रिटेन नहीं किया, किशन को उम्मीद है कि नीलामी में उनपर बड़ी बोलियां लगेगी। पता चला है कि इसलिए उन्होंने दोनों नई टीमों के प्रस्तावों को स्वीकार नहीं किया।
क्विं टन डिकॉक:वह पिछले तीन आईपीएल में सबसे प्रभावशाली बल्लेबाजों में से एक रहे हैं। 2018 सीजन के बाद, मुंबई एक विदेशी सलामी बल्लेबाज और एक गुणवत्ता वाले विकेटकीपर के लिए बेताब थी, इसलिए उन्होंने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू से 2.8 करोड़ रुपये में डिकॉक को ट्रेड किया। उन्होंने 2019 में मुंबई के लिए सर्वाधिक रन बनाए और अगले साल वह दूसरे सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे। उन्होंने लगातार दो सीजनों में 500 से अधिक रन बनाए जो इस प्रतियोगिता में बड़ी उपलब्धि है। मुंबई के साथ अपने तीन सीजन में डिकॉक ने 1329 रन बनाए, जो इस अवधि में उनकी टीम के लिए सर्वाधिक था। वह शायद सीमित ओवर क्रिकेट में विश्व के सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर हैं और उन्होंने दक्षिण अफ्रीका की कप्तानी भी की है। साथ ही तेज गेंदबाजों और स्पिनरों के खिलाफ तेजी से रन बनाने की क्षमता उन्हें विशेष रूप से घातक बनाती है। टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद डिकॉक तरोताजा रहेंगे और पूरे सत्र के लिए उनके उपलब्ध रहने की संभावना है।

- Sponsored -

दिनेश कार्तिक: अनुभवी बल्लेबाज कार्तिक एक सफल फÞििनशर रहे हैं और उन्होंने आईपीएल खतिाब जीतने वाली फैं चाइजी की कप्तानी भी की है। नीलामी में हमेशा से ही उनपर बड़ी बोलियां लगी है। 2014 में उन्हें साढ़े 12 करोड़ में खरीदा गया था, एक साल बाद साढ़े 10 करोड़ में और फिर 2018 में टीम ने उनपर 7 करोड़ 40 लाख रुपये खर्च किए। किशन की तरह कार्तिक भी किसी भी स्थान पर बल्लेबाजी कर सकते हैं लेकिन हालिया सीजनों में उन्होंने केकेआर के लिए फÞििनशर की भूमिका निभाई है। 2018 के बाद से अंतिम ओवरों (17-20) में कार्तिक ने 184.01 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं। इन दौरान 200 से अधिक रन बनाने वाले सभी भारतीय खिलाड़यिों में केवल विराट कोहली, राहुल, पंत, हार्दिक पंड्या, सैमसन और धोनी ने तेजी से रन बनाए हैं और वह सभी खिलाड़ी रिटेन हुए हैं। दबाव से निपटने का अनुभव, विकेट के पीछे से मैच को पढ़ना और नेतृत्व की कÞाबिलियत के कारण फिर एक बार कार्तिक पर टीमें बड़ा निवेश कर सकती हैं। उनकी आयु भले ही 36 वर्ष की है, धोनी और ब्रावो पहले ही साबित कर चुके हैं कि अनुभव बहुत कीमती चीज होती है।
जॉनी बेयरस्टो: बेयरस्टो उन चुनिंदा विदेशी बल्लेबाजों में से एक हैं जिन्होंने आईपीएल में सीजन दर सीजन अच्छा प्रदर्शन किया है। सनराइजर्स ने उन्हें 2019 में 2 करोड़ 20 लाख में अपनी टीम में शामिल किया और उन्होंने डेविड वॉर्नर के साथ एक बेहतरीन सलामी जोड़ी बनाई। सनराइजर्स के साथ तीन सीजन में बेयरस्टो ने 41.52 के औसत और 142.19 के स्ट्राइक रेट से तीन सीजन में 1038 रन बनाए। बेयरस्टो उन विदेशी बल्लेबाजों में से एक हैं जो पेस और स्पिन, दोनों के खिलाफ सहज हैं। साथ ही वह एक तगड़े फील्डर हैं और एक विशेषज्ञ बल्लेबाज के रूप में किसी भी टीम में खेल सकते हैं।
निकोलस पूरन:2019 के बाद से पूरन ने टी20 क्रिकेट में 198 छक्के लगाए हैं जो इस अवधि में किसी भी बल्लेबाज के लिए तीसरे सबसे अधिक हैं। इनमें आईपीएल 2020 में लगाए गए 25 छक्के भी शामिल है। साथ ही 2019 के बाद से आईपीएल में पूरन का स्ट्राइक रेट 154.98 का रहा है। न केवल वह एक ताबड़तोड़ हिटर हैं बल्कि शीर्ष क्रम के साथ-साथ मध्य क्रम में बल्लेबाजी करने में सक्षम हैं। 26 वर्षीय पूरन लंबे समय तक टीम की सेवा कर सकते हैं और सीमित ओवर क्रिकेट में वेस्टइंडीज के उपकप्तान होने के कारण टीमें उन्हें एक नेतृत्व विकल्प के रूप में भी देखेगी।
श्रीकर भरत:जिस क्षण उन्होंने दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ अपनी टीम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू को जीत दिलाने के लिए अंतिम गेंद पर आवेश खान को छक्का लगाया, भरत को पता चल गया था कि यह उनके करियर का एक महत्वपूर्ण मोड़ होगा। तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए भरत की उस पारी ने कप्तान कोहली का दिल जीत लिया था। अपने शुरुआती टी20 करियर में पारी की शुरुआत करने वाले भरत अब किसी भी स्थान पर बल्लेबाजी करने के कÞाबिल हैं। पिछले साल दिसंबर में वह पृथ्वी शॉ के बाद विजय हजारे ट्रॉफी में लगातार मैचों में 150 से अधिक रन बनाने वाले केवल दूसरे बल्लेबाज बने। 28 वर्षीय भरत एक आकर्षक विकल्प हैं क्योंकि टीमें हमेशा एक भारतीय विकेटकीपर-बल्लेबाज को तरजीह देती हैं ताकि उन्हें टीम संतुलन में मदद मिले।

 

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.