Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

कोरोना की दूसरी लहर पर काबू पा लिया, अब जीविका पर ध्यान:हेमंत सोरेन

झारखंड तीन जून से होगा अनलॉक, मुख्यमंत्री ने लोगों से मांगा सुझाव, कहा
रांची : झारखंड 3 जून से अनलॉक हो जाएगा। इस प्रक्रिया को अलग-अलग फेज में लागू किया जाएगा। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इसकी घोषणा की है। साथ ही सोशल मीडिया पर लोगों से अनलॉक-1 पर उनके सुझाव भी मांगे हैं। सीएम ने कहा ट्वीट कर कहा है कि, स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह में आपके दिए सहयोग से हमने कोरोना की दूसरी लहर पर काबू पा लिया है। जीवन और जीविका के इस संघर्ष में अब हमारा ध्यान जीविका पर है। इसलिए आप अपने बहुमूल्य विचार कमेंट कर साझा करें की कैसी होनी चाहिए अनलॉक 1 की प्रक्रिया? मुख्यमंत्री के ट्वीट पर आम लोगों के सुझाव आने शुरू हो गए हैं। इस‍के बाद ट्विटर पर लोगों के जवाब की बाढ़ सी आ गई है। इस क्रम में हजारों लोगों ने एक से बढ़कर एक सुझाव दिए। सबकी अपनी-अपनी नसीहत है। कोई लॉकडाउन बरकरार रखने के पक्ष में है तो कोई छूट के पक्ष में। लोगों ने स्कूल, कोचिंग और शॉपिंग मॉल खोलने को लेकर भी मिली-जुली राय दी है। लोगों ने जीविका का भी हवाला दिया है। कई लोगों ने सुझाव दिया कि अनलॉक में घर से बाहर निकलने की अनुमति उन्हें ही दी जाए जिन्होंने कोरोना का टीका ले लिया है। इसे मान लिया जाए तो निश्चित रूप से टीकाकरण की प्रक्रिया में तेजी आएगी। कई लोगों ने आॅड ईवन सिद्धांत से दुकानों को खोलने की अनुमति देने का सुझाव दिया है तो कुछ लोगों ने इसी आधार पर रोस्टर सिस्टम लागू करके दुकान खोलने की बात कही है। अधिसंख्य लोग आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देना चाहते हैं। दर्जनों लोगों ने ई-पास व्यवस्था को खत्म कर देने का आग्रह किया है। कई लोगों ने ई-पास को लेकर हो रही परेशानी से अवगत कराया है तो किसी ने सभी दुकानों को 2 से 3 घंटे खोलने की सलाह दी है। शुभांगी कहती हैं कि अब ई पास की व्यवस्था पूरे राज्य में नहीं होनी चाहिए। प्रियंका का मानना है कि पहले एक सप्ताह रोज कमाने खाने वाले को प्राथमिकता के साथ दुकान पूरे दिन खोलने की अनुमति दी जाए इसके बाद बड़ी दुकानों को। कुछ लोगों ने शाम 6 बजे तक दुकानें खोलने की अनुमति देने का आग्रह किया है। गौरतलब है कि राज्य में 22 अप्रैल को एक सप्ताह के लॉकडाउन (स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह) की घोषणा की गई थी। इसके तहत आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सख्ती बरती गई थी। इसके बाद से इसमें अलग-अलग बदलाव के साथ आगे बढ़ाया गया। अभी 3 जून तक लॉकडाउन लागू है। अब चूंकि कोरोना की चेन टूट रही है इसलिए सरकार लॉकडाउन में थोड़ी ढील देने के पक्ष में है।
बॉक्स::::::::::::::::::::::::::::::::::::
मुख्यमंत्री के सुझाव मांगे जाने का कांग्रेस ने किया स्वागत
रांची : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा अनलॉक प्रक्रिया प्रारंभ करने से पहले लोगों से सुझाव मांगने का कांग्रेस ने स्वागत किया है। महानगर कांग्रेस अध्यक्ष संजय पांडेय ने कहा कि सरकार ने कोरोना की पहली व दूसरी लहर पर बहुत ही सूझ-बूझ के काबू पाया है। दूसरी लहर में जनता के जीवन व जीविका को सुरक्षित रखने का प्रयास किया है। जनता की सहयोग से संक्रमण की फैलाव पर काबू पाया गया। अब अनलॉक प्रक्रिया शुरू की जानी चाहिए। धीरे-धीरे सभी चीजों को अनलॉक कर पूर्व की स्थिति में लाने का प्रयास किया जाना चाहिए। वहीं, प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि मुख्यमंत्री मनवाणी सुनाने के बजाय जनवाणी सुनने में विश्वास करते हैं। इसलिए अनलॉक के पहले सभी से राय ले रहे हैं। सरकार की संवेदनशीलता और लोगों के सहयोग का परिणाम है कि कोरोना के संक्रमण के रफ्तार में ब्रेक लगाने में झारखंड कामयाब हुआ है। हालांकि संक्रमण की रफ्तार कम हुई है पर खतरा टला नहीं है। इसलिए पाबंदियों को बरकरार रखते हुए अनलॉक की प्रक्रिया लागू हो।

Looks like you have blocked notifications!

Leave a Reply