Live 7 Bharat
जनता की आवाज

भारत में संचार क्रांति राजीव गांधी की देन: अशोक यादव 

- Sponsored -

राजीव के कार्यों को नहीं भुलाया जा सकता: सुखेर भगत
कयूम खान
लोहरदगा: पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी की जयंती को कांग्रेसियों ने सदभावना दिवस के रूप में मनाया। स्थानीय राजेन्द्र भवन स्थित जिला कांग्रेस कार्यालय में कार्यवाहक जिलाध्यक्ष सुखेर भगत की अध्यक्षता में वरीय पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने स्व. गांधी के चित्र पर माल्यार्पण और श्रद्धासुमन अर्पित कर श्रद्धांजलि दीं और उनके व्यक्तित्व और देश के लिए किए गए कार्यों पर प्रकाश डाला। राज्यसभा सांसद प्रतिनिधि अशोक यादव ने पूर्व प्रधानमंत्री की जीवनी पर चर्चा करते हुए कहा कि वह भारत को सफलता की ऊंचाई पर देखना चाहते थे। उन्होंने देश के हर परिवार को इलेक्ट्रॉनिक व्यवस्था से जोड़ने का प्रयास किया। यह प्रयास सफल रहा और उन्हीं की देन है कि आज हर हाथ में मोबाइल और प्राय: हर घर में नेट तथा कंप्यूटर की सुविधा है। भारत के अधिकतर लोग सूचना क्रांति में सहभागी है। उन्होंने स्व. गांधी के स्वभाव के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि वह मृदुभाषी और मिलनसार व्यक्ति थे तथा किसी भी व्यक्ति से वह बहुत ही सहजता से मिलते थे। जिलाध्यक्ष सुखेर भगत ने कहा कि स्व. गांधी वैचारिक रूप से बहुत ही दृढ़ थे और वह जनसमस्याओं को दूर करने में सजग थे। उन्होंने स्व. राजीव गांधी को नए भारत का निर्माता बताते हुए कहा कि यदि उनका नेतृत्व देश को मिलता रहता तो देश आज विकास की नई ऊंचाई पर होता। संबोधित करने वालों में विधायक सह मंत्री प्रतिनिधि निशीथ जयसवाल, हाजी शकील अहमद, नेशार अहमद, जगदीप भगत, प्रदीप विश्वकर्मा, हाजी सिकंदर अंसारी, कमल केसरी आदि शामिल थे। कार्यक्रम में डोमना उरांव, शामुल अंसारी, सदरुल अंसारी, अनिस खान, जमील अंसारी, संदीप गुप्ता, आज़ाद खान, हाजी जब्बारूल, विशाल  डुंगडुंग, संतोष महतो, दीपक महतो, प्रकाश उरांव, तनवीर गौहर, सरिता देवी, अमृता भगत, संगीता भगत, आरती देवी, जुबेर अहमद, रंजन उरांव, नूर मुहम्मद, सूरज मुंडा, नसीम अंसारी, महावीर उरांव, सुशील भगत, हरिदास भगत, सफीक अंसारी, सोहराब अंसारी, रमेश उरांव, बंधु उरांव, मुनीम अंसारी, सनुल्लाह सना, बुधवा उरांव, शिव उरांव, अनवर अंसारी, जुगल भगत, मेहताब आलम, कृष्णा उरांव, महमूद, मदन प्रसाद, इम्तेयाज अंसारी, कबीर अंसारी, मनोहर भगत, मोजहिद अंसारी, उरांव, मुस्ताक अहमद, नाजिम मुहम्मद, इंतेखाब आलम, राजेश लाल सहदेव, खुर्शीद आलम, बंधु उरांव, काले उरांव, रेयाज अंसारी, आदि मुख्य रूप से मौजूद थे।

- Sponsored -

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.

Breaking News: