Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

बांग्लादेश में कोरोना के साये में मनायी गयी ईद-उल-अजहा

- Sponsored -

ढाका: बांग्लादेश में कोरोना संक्रमण के साये में बुधवार को ईद-उल-अजहा का त्योहार धार्मिक हर्ष और उल्लास के साथ मनाया गया।
देश भर की मस्जिदों में लाखों मुसलमानों ने ईद की नमाज अदा की लेकिन कोविड महामारी के मद्देनजर बड़ी संख्या में एक जगह इकट्ठा होने पर रोक लगी हुई है। बैतूल मुकर्रम राष्ट्रीय मस्जिद में बुधवार सुबह साढ़े सात बजे ईद की मुख्य नमाज का आयोजन किया गया। इस दौरान कोरोना वायरस से पीड़ति लोगों के स्वस्थ होने और मृतकों की आत्मा की शांति के लिए विशेष प्रार्थना की गयी। अकीदतमंदों ने महामारी से बांग्लादेश की सुरक्षा के लिए भी प्रार्थना की।
देश में इस समय कोरोना के लगभग 1,60,000 सक्रिय मामले हैं, लिहाजा ईद का त्योहार सादे ढंग से मनाया जा रहा है। सक्रिय मामलों की संख्या इससे बहुत अधिक हो सकती है क्योंकि कई लोग जांच नहीं कराते हैं।
देश में पहले दो हफ्तों में कठोर लॉकडाउन के बावजूद जुलाई में लगभग हर दिन 200 से अधिक मौतों और 10,000 मामलों के साथ प्रकोप रिकॉर्ड गति से बढ़ा जिसके बाद विशेषज्ञों ने प्रतिबंधों के विस्तार का आ’’ान किया लेकिन सरकार ने लोगों से खतरे के प्रति समझदारी दिखाने का आग्रह करते हुए 23 जुलाई की सुबह तक समारोह की अनुमति देने का फैसला किया।
राष्ट्रपति अब्दुल हामिद ने एक संदेश में सभी को ईद की शुभकामनाएं दीं और उन्हें उचित स्वच्छता नियमों का और शारीरिक दूरी का पालन करते हुए सावधानी से त्योहार मनाने की सलाह दी। उन्होंने सभी से संयम और बलिदान के त्योहार ईद-उल-अजहा से प्रेरणा लेकर महामारी से प्रभावित लोगों के साथ खड़े होने का भी आग्रह किया।

 

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

Leave a Reply