Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

जानकारी के अभाव में आरक्षण पर आधारहीन बयानबाजी कर रहे भाजपा नेता : तेजस्वी

पटना: बीपीएससी परिणाम को लेकर भाजपा और राजद के बीच आरोप-प्रत्यारोप जारी है। दो दिन पहले रिजल्ट पर आपत्ती जताने को लेकर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायवसाल ने तेजस्वी यादव के नॉलेज पर सवाल उठाया था। अब तेजस्वी ने पलटवार करते हुए कहा है कि बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष की आरक्षण के प्रावधानों व उसकी अवधारणा की बे-सिरपैर की समझ पर हंसी आती है। बात यहां मेधावी आरक्षित वर्गों के छात्रों को जानबूझकर आरक्षित कोटे में ही सीमित कर देने की संघी साजिश की बात हो रही थी तो उनको लगा कि आरक्षित वर्गों के छात्रों के अच्छे अंक आने से किसी को तकलीफ है। भाजपाई प्रदेश अध्यक्ष को तो यह भी ज्ञात नहीं बीपीएससी की विगत 2-3 प्रतियोगी परीक्षाओं में आरक्षित वर्गों के छात्र ही टॉप कर रहे हैं। उन्होंने स्वयं ही सिद्ध कर दिया कि उन्हें आरक्षण लागू करने की क..ख..ग भर भी समझ नहीं। अगर किसी एससी, एसटी या ओबीसी वर्गों के छात्र के अंक पहले 50 प्रतिशत सीटों के लिए मेरिट लिस्ट में आते हों तो मोबिलिटी के आधार पर आरक्षित वर्ग का छात्र या छात्रा सामान्य वर्ग की 50 प्रतिशत सीटों में स्थान पाएगा, ना कि अपने एससी, एसटी या ओबीसी वर्ग के लिए आरक्षित सीटों में।आरक्षण का यही नियम है और इसी के अनुसार मेरिट लिस्ट बनना चाहिए पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष को या तो इसकी जानकारी नहीं, या फिर जानबूझकर इन्हें कुतर्कों का सहारा लेकर बिहार में आरक्षित वर्गों के साथ भाजपाई नेतृत्व में किए जा रहे अन्याय को छुपाने के लिए बाध्य कर रहा है। अत: आरक्षण विरोधी लागों से अपील है कि आरक्षण की अधकचरा समझ से आरक्षण पर कुठाराघात करने की जुर्रत ना करें, नहीं तो वंचित उपेक्षित वर्ग बिहार में तीसरी नंबर की पार्टी के कंधे पर टिकी उनकी बची खुची उधार की राजनीति को भी ठिकाने लगा देंगे।

Looks like you have blocked notifications!

Leave a Reply