Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

अग्निपथ को लेकर, बिहार में बयानबाजी शुरू

आग्नी वीर पर भिड़े ललन सिंह व संजय जायसवाल

- Sponsored -

बिहार में अग्निपथ योजना के विरोध में अब बिहार की राजनीति भी गरमा गई है। और इस क्रम में राजनेताओं के बीच जोड़दार बयानबाजी भी शुरू हो गई है। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने बिहार के प्रशासन प्रणाली पर सवाल उठाए थे। इसका विरोध करते हुए जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने उन पर हमला बोला है।

 

ललन सिंह ने कहा है कि नीतीश कुमार गुड गवर्नेंस के लिए जाने जाते हैं और सरकार चलाने में उनका कोई जोड़ नहीं है। ललन सिंह ने यह भी कहा है कि संजय जायसवाल को अनुभव की कमी है। संजय जायसवाल मानसिक संतुलन खो बैठे हैं। संजय जायसवाल नहीं जानते हैं कि सरकार कैसे चलायी जाती है।

 

बता दें कि लल्लन सिंह का रिएक्शन संजय जायसवाल के बयान पर आया है। इस से पहले बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा था कि बिहार में मिलीभगत से पथराव करवाया जा रहा है। यह एक खास एजेंडे के तहत हंगामे को हवा दी गई।

- Sponsored -

साथ ही उन्होंने अग्नीपथ स्कीम की योजना पर उठे बवाल पर कहा कि 5 दिनों से विरोधी दलों के द्वारा अफवाहों का बाजार गर्म किया जा रहा है। छात्रों को भड़काने का काम किया गया है। सुनियोजित और संगठन से विरोधी दलों के द्वारा एक खास एजेंडा के तहत बिहार को पूरे तौर पर तबाह करने की स्थिति पर पहुंचा दिया गया है। यह सब एक विशेष योजना के तहत किया जा रहा हैं।

 

- Sponsored -

इस बीच बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने प्रशासन पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि 300 पुलिसकर्मियों के रहते हुए भी नवादा के बीजेपी कार्यालय को जला दिया गया, कहीं न कहीं प्रशासन की स्थिति ठीक नहीं है। प्रशासन एक्टिव नहीं रहेगा तो ऐसी घटनाएं होंगी। उन्होंने आगे कहा कि यह एक अच्छी योजना है। इस स्कीम के किस चीज में एतराज है। यह तो बताइए उसे दूर करने का हम काम करेगे। साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा को टारगेट किया जा रहा है प्रशासन की कहीं ना कहीं कमी भी देखी जा रही है। संजय जायसवाल ने कहा कि बिहार में इस घटनाओं पर रोक लगाना चाहिए।

 

जिसका पलटवार करते हुए ललन सिंह ने संजय जायसवाल के बारे में कहा की उनके पास अनुभव की कमी है और वह अपना संतुलन खो बैठे है।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.