Live 7 TV
सनसनी नहीं, सटीक खबर

पदाधिकारियों के पहुंचने से पहले ही बालू माफिया फरार

- Sponsored -

अवैध उत्खनन करने वालों पर बड़ी कार्रवाई की एसडीओ ने दी चेतावनी
सरायकेला: सरायकेला जिले के सबसे बड़ी सपड़ा नदी से हो रहे लगातार अवैध बालू उत्खनन के खिलाफ सरकार की सबसे बड़ी दबिश। जले में मौजूद दोनों अनुमंडल पदाधिकारी राम कृष्ण कुमार एवं रंजीत लोहरा के साथ जिला खनन पदाधिकारी सनी कुमार, गम्हरिया अंचल अधिकारी मनोज कुमार एवं वन विभाग के रेंजर प्रकाश चंद्र के साथ कपाली, चांडिल और आदित्यपुर थाना के थानेदार पहुंचे। हालांकि तमाम उच्च पदाधिकारियों के पहुंचने के बावजूद बालू माफियाओं की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। मौके से सभी बालू माफिया फरार हो चुके थे। फिलहाल सरायकेला अनुमंडल पदाधिकारी रामकृष्ण कुमार ने बताया कि लगातार सूचना मिलने के बाद मौके पर छापेमारी की गई है लेकिन एक भी बालू लदा हुआ ट्रैक्टर जब्त नहीं किया जा सका है। हालांकि मौके से करीब 50 से 60 की संख्या में बालू उठाने वाले डोंगा को जब्त किया गया है। जिसे प्रशासन पूरी तरह से नष्ट करने का प्लान बना रही है। दूसरी ओर चांडिल के अनुमंडल पदाधिकारी रंजीत लोहरा ने बताया कि इस नदी से बालू का उठाव बड़े ही अनोखे तरीके से होता है। बालू माफिया डुबकी लगाकर नदी के अंदर से बालू का खनन करवाते हैं जिससे खनन करने के दौरान खनन करने वाले व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। पूरे मामले को गंभीरता से लिया जा रहा है और इस पर अब कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
अवैध बालू लदा 2 ट्रैक्टर जब्त, दो पकड़ाये: सरायकेला-खरसावां जिले में सक्रिय बालू माफियाओं पर प्रशासन ने नकेल लगाई शुरू कर दी है। शुक्रवार को सरायकेला एसडीओ राम कृष्ण कुमार और डीएमओ सन्नी कुमार ने दो ट्रैक्टरों को जब्त कर लिया। जिला मुख्यालय के समीप से होकर गुजर रहे इन वाहनों को पहले रोका गया। इसके बाद दस्तावेज की मांग की गई। वाहन चालक जरूरी कागजात पेश नहीं कर सके। लिहाजा दोनों वाहनों के चालक मंगला लोहार और प्रदीप सरदार को हिरासत में ले लिया गया। दोनों वाहन सीनी निवासी राजू महतो के बताए जा रहे हैं। मिली जानकारी के अनुसार दोनों ट्रैक्टर सरायकेला थाना अंतर्गत आम बागान के समीप खरकाई नदी से बालू लेकर सीनी की तरफ जा रहे थे। इसी बीच गौरांगडीह के समीप दोनों अधिकारियों ने ट्रैक्टरों को जब्त कर लिया। दोनों ट्रैक्टरों को सरायकेला थाना पुलिस के हवाले कर दिया गया है। जिला खनन विभाग की ओर से अलग-अलग टीम का गठन कर अवैध बालू खनन के खिलाफ लगातार छापेमारी की जा रही हैं। इसके बावजूद बालू माफियाओं की गतिविधियों पर पूरी तरह से रोक नहीं लग पा रही।

Looks like you have blocked notifications!

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.